मोबाइल पर किसी से बात करने, इंटरनेट चलाने जैसी चीजों के लिए आमतौर पर सिम कार्ड (Sim Card) का इस्तेमाल करते हैं. सिम कार्ड मोबाइल के लिए बहुत जरूरी होता है और इसके जरिए ही हम घर बैठे विदेशों में बात कर सकते हैं.  सिम कार्ड से जुड़ी कई बातें होती है लेकिन हम आपको एक दिलचस्प बात बताएंगे वो ये कि हर सिम कार्ड का एक कोना कटा क्यों रहता है? इसके पीछे का कारण क्या होता है?

यह भी पढ़ें: Paytm के इस प्लेटफॉर्म पर नहीं जुड़ सकेंगे लोग, RBI ने कहा ‘तुरंत बंद करें’

सिम कार्ड का कोना क्यों कटा होता है?

जब मोबाइल फोन्स की शुरुआत हुई तब CDMA तकनीक के फोन बनते थे जिसमें यही CDMA Sim Cards इस्तेमाल होते थे. जो सिर्फ कैरियर से लिंक होते थे लेकिन बाद में जबू GSM Sim Cards का इस्तेमाल होने लगा तो सिम का डिजाइन रेक्टैंगल आकार का हुआ. इस तकनीक के जरिए सिम लगाने की जरूरत महसूस होने लगी थी. उस समय सिम कोने से कटे नहीं होते थे तब सिम निकालने और लगाने में काफी मुश्किल महसूस होने लगी. इतना ही नहीं लोगों को ये भी समझ नहीं आता था कि सिम का सीधा और उल्टा भाग कौन है. ऐसे में सिम से जुड़ी समस्याएं लोगों को होने लगी. तब नेटवर्क प्रोवाइडर्स ने सिम के लिए नया डिजाइन सोचा और सिम का एक कोना काट दिया गया, इससे आसानी से मोबाइल में ये फिट हो जाए और निकल भी जाए.

यह भी पढ़ें: Vodafone Idea के इस ऑफर के तहत मिल रहा है 2400 रुपये का कैशबैक, जल्दी करें

सिम के अलावा मोबाइल में जहां सिम लगाते हैं वहां का डिजाइन भी बदला गया. इसमें ऐसा खांचा बनाया गया जिसमें सिम आसानी से फिट हो जाए और निकालने के लिए भी जगह बनाई गई. टेलीकॉम कंपनी की इस व्यवस्था के कारण लोगों को सिम ऑपरेट करने में आसानी होने लगी और अब आप फोन में देख सकेंगे कि सिम कार्ड की ट्रे में भी सिम को सही साइड से लगाने के निशान बनाए जाते हैं. किसी भी तकनीक का पहला उद्देश्य यही है कि लोगों के कामों को हर तरह से आसान बनाया जा सके.

यह भी पढ़ें: UP में इस योजना के लिए दिए जाते हैं 1000 रुपये, जाने इसके बारे में सभी डिटेल्स