Online Fraud Safety New Rule: आज के समय में ऑनलाइन फ्रॉड (Online Fraud) के मामले दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं.  आए दिन बड़ी संख्या में भोले भाले लोग ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हो जाते हैं. आपको बता दें कि मोबाइल कॉलिंग (Calling Fraud) से धोखाधड़ी के मामलों में अचानक काफी बढ़ोत्तरी हुई है. ठग बड़ी ही आसानी से कॉलिंग के जरिए लोगों को चपत लगा देते हैं. बता दें कि कॉल करने के लिए ठग इस तरह के मोबाइल नंबर (Fake Mobile Number) का इस्तेमाल करते हैं, जिसकी पहचान न हो सके. ऐसे में अब सरकार इस तरह के मामलों में लगाम लगाने के लिए एक बड़ा कदम उठाने जा रही है. सरकार मोबाइल कॉलिंग पर कुछ बड़े बदलाव करने की तैयारी में है. इससे ऑनलाइन फ्रॉड पर लगाम लगाने के साथ साथ फर्जी नंबरों पर भी रोक लग सकेगी.

यह भी पढ़ें: महिलाएं शादी के बाद तुरंत निपटा लें PAN Card से जुड़ा ये काम, वरना होगा भारी नुकसान!

आपको बता दें कि इस तरह के मामलों में रोक लगाने के लिए सरकार अब TRAI के साथ मिलकर नया सिस्टम तैयार करने की योजना बना रही है. इसके लागू होने से  कॉल करने वालों के मोबाइल नंबर के साथ उनकी फोटो भी नजर आएगी. इसके लिए सरकार KYC सिस्टम लागू करने वाली है. इसके लिए दो व्यवस्था लागू होगी. पहली आधार कार्ड आधारित और दूसरी सिम कार्ड आधारित होगी. जिससे की इस तरह के मामलों पर कंट्रोल करने में काफी मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें: आप भूलकर भी न रखें अकाउंट का ये Password? वरना हो जाएगा हैक, देखें लिस्ट

आधार कार्ड पर आधारित

नई व्यवस्था की मानें, तो सभी नंबर्स को आधार कार्ड से लिंक किया जाएगा. इसके बाद जब भी कोई आपको कॉल करेगा, तो आपको मोबाइल नंबर के साथ नाम भी प्रदर्शित होने लगेगा. डिस्पले पर नाम आधार कार्ड के आधार पर आएगा. वही होगा जो आधार कार्ड पर दर्ज होगा. 

यह भी पढ़ें: YouTube पर ये हैं 5 बेस्ट बॉलीवुड फिल्में, आपने देखी क्या?

सिम कार्ड पर आधारित

वहीं दूसरी व्यवस्था की बात करें, तो इसमें नया सिम लेने के दौरान आपको दस्तावेज देने होंगे. उस आधार पर लोगों की फोटो को कॉलिंग के साथ अटैच किया जाएगा. इस तरह से फर्जी कॉलिंग की पहचान करना काफी आसान हो जाएगा. सरल शब्दों में कहा जाए, तो कॉल करते समय वो फोटो शो  होना शुरू हो जाएगी, जो आपने सिम खरीदते वक्त क्लिक कराई थी. 

यह भी पढ़ें: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए अब टेस्ट की जरूरत नहीं, ऐसे घर बैठे होंगे काम

इस तरह से मिलेगा लाभ

इस व्यवस्था के लागू होते ही किसी कॉल के आने पर रिसीवर को पता चल जाएगा कि यह कॉल उन्हें कौन कर रहा है. गौरतलब है कि कॉल करने वाला व्यक्ति अपनी निजी जानकारी को छिपा नहीं सकेगा, जिसके चलते ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों को कंट्रोल किया जा सकेगा.