IND vs PAK: एशिया कप (Asia Cup 2022) शुरू हो चुका है और इस टूर्नामेंट का पहला मैच अफगानिस्तान (Afghanistan) और श्रीलंका (Sri Lanka) के
बीच खेला गया. जहां अफगानिस्तान ने श्रीलंका को हराकर यह जाता दिया है की कोई भी
टीम उनको हलके में न लें. लेकिन सभी की निगाहें आज 28 अगस्त 2022 को खेले जाने वाले मैच पर होंगी.
टूर्नामेंट का दूसरा मैच भारत और पाकिस्तान (India vs Pakistan) के बीच खेला जाना है. 7 बार की चैंपियन भारत इस टूर्नामेंट को जीतना चाहेगी. लेकिन
क्या आप जानते हैं एक ऐसा दौर भी था जब भारत ने एशिया कप में हिस्सा नहीं लिया था.
वही पाकिस्तान ने भी एक बार एशिया कप में हिस्सा नहीं लिया है. तो आइए जानते हैं
कि दोनों टीमों ने एशिया कप से क्यों दूरी बना ली थी.

यह भी पढ़ें: Asia Cup 2022: अफगानिस्तान ने श्रीलंका को रौंदा, 8 विकेट से जीता मैच

भारत ने 1986 में नहीं लिया था
हिस्सा

एशिया कप का पहला सीजन 1984 में खेला गया था और इसकी मेजबानी संयुक्त अरब अमीरात ने की थी.
उस समय केवल तीन टीमें, भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका ने भाग लिया था. भारत की टीम का नेतृत्व सुनील
गावस्कर ने किया और भारत ने पहला एशिया कप जीता था. एशिया कप का दूसरा सीजन साल 1986
में खेला गया था, जिसकी मेजबानी श्रीलंका ने की थी. उस समय श्रीलंका के साथ तनावपूर्ण
स्थिति के कारण भारत ने एशिया कप में भाग नहीं लिया था. भारत की अनुपस्थिति में
मेजबानों के साथ पाकिस्तान और बांग्लादेश ने टूर्नामेंट में भाग लिया. बांग्लादेश
ने उसी साल एशिया कप से अपना वनडे डेब्यू किया था.

यह भी पढ़ें: ICC Media Rights: इस बड़ी कंपनी ने मारी बाजी, 4 साल के लिए मिले मीडिया राइट्स

1990 में पाकिस्तान ने नहीं लिया था
हिस्सा

साल 1990 में पाकिस्तान के साथ भारत के संबंध ठीक नहीं चल रहे थे और उस साल भारत
एशिया कप की मेजबानी कर रहा था. ऐसे में पाकिस्तानी टीम भारत नहीं आना चाहती थी.
इसलिए पाकिस्तानी टीम ने एशिया कप में खेलने से इनकार कर दिया. उस साल यह
टूर्नामेंट भारत, बांग्लादेश और श्रीलंका के बीच खेला
गया था. जहां फाइनल मुकाबले में अजरुद्दीन की अगुवाई वाली भारतीय टीम ने श्रीलंका
को सात विकेट से हरा दिया था.