कुछ लोगों
का वास्तव में मानना है भूत (Ghost) होते हैं लेकिन कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनका कहना है की
भूत जैसी कोई चीज नहीं होती. आप जो कुछ भी सोचते हैं मगर तथ्य यह है कि यह दुनिया
के सबसे बहस योग्य विषयों में से एक है. अगर इस विषय की चर्चा उत्तराखंड (Uttarakhand) के संबंध
में की जाए तो शहर में कई ऐसी जगहें हैं जहां माना जाता ही की वहां भूतों का साया
है. आप भूतों को मानते हैं या नहीं, लेकिन हम आपको आज
उत्तराखंड की कुछ ऐसी ही भूतिया जगहों के बारे में बताने जा रहें हैं.

यह भी पढ़ें: Chandigarh में हैं ऐसी अजीबो-गरीब जगहें, जहां है भूतों का साया

परी टिब्बा

परी टिब्बा
मसूरी में प्रसिद्ध वुडस्टॉक स्कूल के दक्षिण में एक जंगली पहाड़ी है, जिसके बारे में दावा किया जाता है कि यहां आकाश
में कई गतिविधियों को देखा गया है . माना जाता है कि इसी जंगल में आकाशीय बिजली
गिरने से एक प्रेमी जोड़े की मौत हो गई थी. वहां रहने वाले लोगों का मानना है कि
उनकी आत्माएं अभी भी वहां घूम रही है और यह जगह काफी भूतिया है.

यह भी पढ़ें: Most Dangerous Places: दुनिया की 5 सबसे खतरनाक जगहें, अपने ही रिस्क पर जाएं

हॉन्टेड
हाउस लोहाघाट

उत्तराखंड
में लोहाघाट के चंपावत जिले में एक ऐसी जगह है जिसे भूतिया माना जाता है. बताया
जाता है कि पहले यहां एक दंपति एक मकान में रहते थे,  जिसे बाद उसे  अस्पताल में तब्दील कर दिया गया. एक डॉक्टर था
जिसने लोगों की मौत की भविष्यवाणी की थी. जिस भी मरीज की डेट नजदीक आती थी उसे एक
सेल में बंद देता था. बाद में पता चला कि डॉक्टर खुद उन मरीजों मार देता था, जिसके कारण उस जगह को भूतिया घोषित कर दिया गया
था.

यह भी पढ़ें: भारत की इन 6 जगहों के नाम हैं गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, नजारा कर देगा मंत्रमुग्ध

लंबी देहरा
माइंस

ये जगह मसूरी शहर के बहार मौजूद है, जहां दूर दूर तक
कोई नहीं रहता है. पहले के समय में यहां पर लोग 
चूने की खानों में काम किया करते थें जिसके कारण वह बीमार पड़ गए और आखिरकार
उनकी मौत हो गई. यहां आने जाने वाले लोगों का कहना है की उन्होंने चीखें सुनी हैं
और आत्माएं उन्हें काफी परेशान करती हैं. इस वजह से ये जगह भूतिया बन चुकी है.

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.