भारत (India) को 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी. देश को आजादी दिलाने में कई सेनानियों ने अपनी जान की बाजी लगा दी थी, लेकिन कई बातें ऐसी भी है जिनको बहुत ही कम लोग जानते हैं. अपने इस लेख में हम आपको स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) से जुड़ी कुछ रोचक बातें बताने वाले हैं. इन्हें सुनकर आप भी दंग रह जाएंगे. इन रोचक बातों को सुनकर स्वतंत्रता दिवस के बारे में आपको बहुत कुछ जानने को मिलेगा. ये बातें प्रतियोगी परीक्षा के लिहाज से भी आपकी सहायता करेंगी.

यह भी पढ़ें: Har Ghar Tiranga अभियान में शामिल हुए ये बॉलीवुड सितारे, घर पर लहराया तिरंगा

1. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, देश की आजादी के लिए आंदोलन का नेतृत्व भले ही महात्मा गांधी ने किया था, परंतु जब 15 अगस्त को भारत को आजादी मिली तो उसके जश्न में गांधी जी शामिल नहीं हुए थे.

2. ऐसा कहा जाता है कि आजादी के जश्न के दिन महात्मा गांधी बंगाल में हिंदू और मुस्लिमों के बीच हो रही सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे.

3. जब बापू को आजादी के जश्न में शामिल होने के लिए पंडित जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल ने न्योता भेजा तो गांधीजी ने कहा कि ‘जब कलकत्ता में हिंदू-मुस्लिम एक दूसरे की जान ले रहे हैं तो मैं जश्न में कैसे शामिल हो सकता हूं? मैं दंगा रोकने के लिए अपनी जान दे दूंगा.’

यह भी पढ़ें: Independence Day पर OLA लॉन्च कर सकती है पहली Electric Car, देखें Video

4. जब देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण ‘ट्रिस्ट विद डेस्टिनी’ को पूरी दुनिया ने मध्य रात्रि में सुना था. उस दिन गांधी जी रात 9 बजे ही सोने चले गए थे.

5. जैसा कि आपको भी पता होगा कि हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं, लेकिन 1947 में ऐसा नहीं हुआ था. पंडित जवाहरलाल नेहरू ने 1947 में 16 अगस्त को झंडा फहराया था.

6. भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा का निर्धारण 15 अगस्त को नहीं हुआ था. बता दें कि इसका निर्धारण 17 अगस्त को किया गया था.

यह भी पढ़ें: Independence day quiz: क्या आप भारत की आजादी से जुड़े इन 5 सवालों का जवाब दे पाएंगे

7. आजादी के बाद भारत के पास कोई राष्ट्रगान नहीं था. जन-गण-मन को साल 1950 में भारत के राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार किया गया था.

8. भारत के अलावा दक्षिण कोरिया, उत्तर कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन भी 15 अगस्त की तारीख को ही आजाद हुए थे.

9. 15 अगस्त को ही आजादी के सेनानी महर्षि अरबिंदो घोष का जन्म हुआ था.

10. 5 अगस्त 1950 के दिन असम में बहुत तगड़ा भूकंप आया था. इस भीषण भूकंप की वजह से 1500 से 3000 लोगों की दुखद मृत्यु हो गई थी.