समुद्र में तैरना और मछलियों को देखना तो आम बात है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आप समुद्र के अंदर बैठकर खाना खा सकते हैं और उसमें सो भी सकते हैं? भले ही यह एक सपने की तरह लगता हो, लेकिन दुनिया में कई ऐसे होटल हैं जहां आप समुद्र के नीचे बैठकर लंच कर सकते हैं. चलिए जानते हैं ऐसे खूबसूरत अंडरवाटर होटेल्स के बारे में.

रिजॉर्ट वर्ल्ड सेंटोसो

सिंगापुर में स्थित यह रिजॉर्ट वर्ल्ड सेंटोसो, सिंगापुर तट से कुछ ही दू सेंटोसा द्वीप पर बनाया गया है. यहां ठहरने के लिए आपको 11 टू स्टोरी लॉज मिलेंगे. यहां लोग खुले आसमान के नीचे रहने का एक्सपीरिएंस लेते हैं और यह बेहद खूबसूरत जगह है. यहां लगभग 40,0000 मछलियों से भरा एक्वेरियम दिखता है.

यह भी पढ़ें: बीच के किनारे अपने पापा को गले लगाती ये क्यूट बच्ची, आज है बॉलीवुड की स्टार

मांटा रिजॉर्ट, पाम्बा आइलैंड

जांजीबार तट पर बना मांटा रिजॉर्ट का अंडरवाटर रूम तट से करीब दो मिनट की दूरी पर है. इसमें आप कोरल रीफ व्यू और बेडरूम से छत पर पानी देखने का मजा ले सकते हैं. यह जगह बेहद आकर्षक और खूबसूरत है.

यह भी पढ़ें: Russia Ukraine War: पीएम मोदी आज राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से करेंगे बात

हुवाफेन फुशी, मालदीव

मालदीव का यह हुवाफेन फुशी बेहद खूबसूरत है और लोग दूर-दूर से यहां घूमने आते हैं. हालांकि ये पानी के भीतर नहीं हैं. लेकिन आप इसमें बने स्पा के नीचे करीब 25 फीट गहराई तक उतर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कौन हैं साउथ के सुपरस्टार यश की पत्नी राधिका पंडित? फोटो हो रही वायरल

रीफसूट्स, विटसंडे आइलैंड

यह ऑस्ट्रेलिया के विटसंडे आईलैंड में स्थित है. यह देखने में बेहद खूबसूरत और आकर्षक है. लोग विजिटर्स पहले क्वींसलैंड से 46 मील की दूरी पर एक पोंटून नाव से चट्टान तक पहुंचते हैं. फिर लोग यहां सितारों की रोशनी के नीचे खाना खाते हैं. यहां प्राइवेट रूम्स दिए जाते हैं, जहां आप कई सारी मछलियों और पानी को देख सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कौन हैं साउथ के सुपरस्टार यश की पत्नी राधिका पंडित? फोटो हो रही वायरल

अटलांटिस, द पाम

अटलांटिस, द पाम बेहद मशहूर है और यह दुबई में स्थित है. इसमें आपको फर्श से छत तक बनी खिड़कियों वाला अंडरवाटर रूम देखने को मिलेगा. इस रिजॉर्ट के एक्वेरियम से आप लगभग 65 हजार समुद्री जीव देख सकते हैं और एंजॉए कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: विदेश में रहना चाहते हैं? तो ये हैं वे देश जहां रहने का खर्च है भारत से भी कम