World Mental Health Day 2023: मानसिक बीमारी कोई पागलपन नहीं होता है बल्कि ये बिल्कुल वैसा है जैसे शारीरिक रूप से दूसरी बीमारी होती है. इंसान के जीवन में सुख और दुख दोनों आता-जाता है लेकिन कई दुखों से इंसान उबर नहीं पाता या कुछ बातें किसी से कह नहीं पाता तो वो मानसिक रूप से कमजोर हो जाता है. मानसिक रूप से यही कमजोरी इंसान को आगे जाकर मानसिक रोग का शिकार बना देती है. 10 अक्टूबर को दुनियाभर में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जा रहा है और इस मौके पर जगह-जगह शिविर भी लगेंगे. इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ लोगों को जागरुक करना है. कुछ आदतें भी हमें मानसिक रूप से बीमार बनाने में मददगार होती हैं चलिए आपको उन 5 बुरी आदतों के बारे में बताते हैं.

यह भी पढ़ें: World Mental Health Day 2023: क्यों मनाया जाता है विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस? जानें इसका इतिहास और इस साल की थीम

मानसिक रूप से बीमार करती हैं ये 5 आदतें (World Mental Health Day 2023)

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन(WHO) के अनुसार, बीते कुछ सालों में लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर काफी गहरा असर पड़ा है. जिसके कारण लोगों को हार्ट अटैक, ब्रेन हैमेरेज जैसी कई बीमारियों का सामना करना पड़ा और करना पड़ रहा है. आप अपने डेली लाइफ में कई ऐसी आदतों को बदलकर इससे उबर सकते हैं. यहां आपको बताते हैं कि कुछ आदतें आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं.

World Mental Health Day 2023
विश्व मानसिक स्वास्थय दिवस 2023. (फोटो साभार: Unsplash)

मोबाइल की आदत: मोबाइल का अत्याधिक इस्तेमाल हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा प्रभाव डालता है. आज के समय में लोगों को मोबाइल की ऐसी लत लग चुकी है कि उसके बिना वह अपंग सा महसूस करने लगते हैं. एक रिसर्च के मुताबिक, मोबाइल का बहुत ज्यादा उपयोग आपको डिप्रेशन, चिंता और तनाव में डाल देता है. इसलिए मोबाइल का इस्तेमाल कम कर देना चाहिए.

पर्याप्त नींद न लेना: स्वस्थ शरीर के लिए पर्याप्त नींद लेना बहुत आवश्यक है, लेकिन आज के दौर में लोग नींद को उतनी वैल्यू नहीं देते हैं. सोने और जागने का नियम ना होने पर अक्सर हमारी नींद अधूरी रह जाती है, जिसका हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ता है. ऐसे में हमें पर्याप्त नींद लेनी चाहिए.

फैमिली के साथ सलाह मश्वरा: अक्सर कुछ लोग अपने में रहना पसंद करते हैं और वह अपने परिवार वालों को भी समय नहीं देते हैं. उनसे किसी भी प्रकार की बातें भी शेयर नहीं करते हैं. ऐसे में उनका मानसिक तनाव बढ़ता जाता है और एक समय पर इसके गंभीर परिणाम देखने को मिलते हैं. इसलिए कुछ समय अपने घर परिवार के साथ जरूर बिताना चाहिए.

दूसरों से तुलना करना: कई बार लोग अपनी तुलना दूसरों से करने लगते हैं और तुलना करने के बाद अक्सर तनाव में आ जाते हैं. इसलिए अपनी इस आदत को छोड़कर हमें अपने कर्मों पर ध्यान देना चाहिए. इससे आप संतुष्ट रहेंगे और मानसिक रूप से बिल्कुल फिट रहेंगे.

(नोटः ये जानकारी एक सामान्य सुझाव है. इसे किसी तरह के मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें. आप इसके लिए अपने डॉक्टरों से सलाह जरूर लें.)

यह भी पढ़ेंः Sunny Deol फिर अपनी सीक्वल से माचएंगे धमाल, सब कुछ हो गया है फाइनल!