Independence Day Poems In Hindi: प्रत्येक भारतवासी के लिए 15 अगस्त का दिन बहुत ही खास होता है. इस दिन को हम सभी स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं. सरकार द्वारा उपयोग की जाने वाली प्रणाली के मुताबिक, इस साल देश 77वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है. इस दिन बच्चों से लेकर बूढ़ों तक में गजब का क्रेज देखने को मिलता है. आपको बता दें कि इस दिन स्कूल, कॉलेजों और कार्यालयों में विभिन्न कार्यक्रम व प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया जाता है. जहां पर स्वतंत्रता दिवस पर कविता (Independence Day Poems) लेखन प्रतियोगिता कराई जाती है. ऐसे में आज हम आपको कुछ कविताएं (Independence Day Poems) लेकर आए हैं.

यह भी पढ़ें: Independence Day Songs: देशभक्ति के जोश से भरपूर हैं ये बॉलीवुड गाने, स्वतंत्रता दिवस पर सुनें ये प्लेलिस्ट

घायल हिन्दुस्तान -: हरिवंशराय बच्चन

1-

मुझको है विश्वास किसी दिन
घायल हिंदुस्तान उठेगा।

दबी हुई दुबकी बैठी हैं
कलरवकारी चार दिशाएँ,
ठगी हुई, ठिठकी-सी लगतीं
नभ की चिर गतिमान हवाएँ,

अंबर के आनन के ऊपर
एक मुर्दनी-सी छाई है,

एक उदासी में डूबी हैं
तृण-तरुवर-पल्लव-लतिकाएँ;
आंधी के पहले देखा है
कभी प्रकृति का निश्चल चेहरा?

इस निश्चलता के अंदर से
ही भीषण तूफान उठेगा।
मुझको है विश्वास किसी दिन
घायल हिंदुस्तान उठेगा।

यह भी पढ़ें: Har Ghar Tiranga Campaign: कब और किसने शुरू किया हर घर तिरंगा अभियान? जानिए इसका महत्व

2-

न चाहूँ मान दुनिया में -: राम प्रसाद बिस्मिल

न चाहूँ मान दुनिया में, न चाहूँ स्वर्ग को जाना
मुझे वर दे यही माता रहूँ भारत पे दीवाना

करुँ मैं कौम की सेवा पडे़ चाहे करोड़ों दुख
अगर फ़िर जन्म लूँ आकर तो भारत में ही हो आना

लगा रहे प्रेम हिन्दी में, पढूँ हिन्दी लिखुँ हिन्दी
चलन हिन्दी चलूँ, हिन्दी पहरना, ओढना खाना

भवन में रोशनी मेरे रहे हिन्दी चिरागों की
स्वदेशी ही रहे बाजा, बजाना, राग का गाना

लगें इस देश के ही अर्थ मेरे धर्म, विद्या, धन
करुँ मैं प्राण तक अर्पण यही प्रण सत्य है ठाना

नहीं कुछ गैर-मुमकिन है जो चाहो दिल से “बिस्मिल” तुम
उठा लो देश हाथों पर न समझो अपना बेगाना।।

यह भी पढ़ें: Indian Flag Designer: किसने किया था भारतीय ध्वज को डिजाइन? जानिए पूरा इतिहास

3-

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा -: श्यामलाल गुप्त ‘पार्षद’

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।
सदा शक्ति बरसाने वाला,
प्रेम सुधा सरसाने वाला
वीरों को हरषाने वाला
मातृभूमि का तन-मन सारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।

स्वतंत्रता के भीषण रण में,
लखकर जोश बढ़े क्षण-क्षण में,
काँपे शत्रु देखकर मन में,
मिट जावे भय संकट सारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।

इस झंडे के नीचे निर्भय,
हो स्वराज जनता का निश्चय,
बोलो भारत माता की जय,
स्वतंत्रता ही ध्येय हमारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।

आओ प्यारे वीरों आओ,
देश-जाति पर बलि-बलि जाओ,
एक साथ सब मिलकर गाओ,
प्यारा भारत देश हमारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।

इसकी शान न जाने पावे,
चाहे जान भले ही जावे,
विश्व-विजय करके दिखलावे,
तब होवे प्रण-पूर्ण हमारा,
झंडा ऊँचा रहे हमारा।