Christmas Essay In Hindi: ईसाई धर्म के लोग प्रत्येक साल 25 दिसंबर को क्रिसमस का पर्व मनाते हैं. इस त्योहार को विश्वभर में कई समुदाय के लोग मनाते हैं. जैसे-जैसे सर्दी बढ़ती है वैसे ही क्रिसमस (Christmas Festival) का रंग भी बढ़ता जाता है. क्रिसमस के त्योहार को ईसा मसीह के जन्मदिन को याद रखने और सम्मान देने के लिए मनाया जाता है. क्रिसमस के दिन जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ था. इसे मसीह के पर्व दिवस के रूप में जाना जाता है. यहां हम छात्रों के लिए क्रिसमस पर निबंध (Essay on Christmas) साझा कर रहे हैं. जिनका इस्तेमाल स्टूडेंट्स स्कूल में क्रिसमस निबंध लेखन प्रतियोगिता में कर सकते है.

यह भी पढ़ें: Christmas 2022: क्रिसमस ट्री को घर लाने से दूर होंगे ये 5 वास्तु दोष, जीवन में आएंगी खुशियां

क्रिसमस पर निबंध इन हिंदी

क्रिसमस ईसाई धर्म का प्रसिद्ध पर्व है. यह त्योहार हर वर्ष 25 दिसंबर को विश्वभर में मनाया जाता है. भारत में क्रिसमस को बड़ा दिन कहा जाता है. 25 दिसंबर को क्रिसमस इस वजह से मनाया जाता है क्योकि इस दिन यीशु मसीह का जन्म हुआ था.

वे ईसाई धर्म के संस्थापक थे. उन्होंने ईसाई धर्म को बनाया था. ईसा मसीह एक महान इंसान थे. उन्होंने लोगों को मिलजुल कर प्यार और भाईचारे से रहने का पाठ पढ़ाया. यीशु को ईसाई धर्म के लोग ईश्वर का बेटा मानते थे. इस कारण से ईसाई धर्म के द्वारा ईसा मसीह के जन्मदिन को धूम-धाम के साथ मनाया जाता है. इस पर्व को आने से पहले लोग घरों में सजावट करने लगते हैं.

यह भी पढ़ें: Christmas Gift Ideas: इस क्रिसमस बच्चें और गर्लफ्रेंड को दे ये शानदार गिफ्ट, देखें लिस्ट

इसके साथ ही मार्किट में तैयारियां शुरू हो जाती है. लोग चर्च को अलग-अलग तरह की लाइट्स से सजाते हैं. क्रिसमस के अवसर पर लोग अधिक संख्या में एकत्रित होते हैं. इस दिन घरों में क्रिसमस ट्री लगाने की परम्परा है. यीशु मसीह के जन्मदिन को लोग केक काटकर मनाते हैं और अपनी फैमिली को केक खिलाकर क्रिसमस और यीशु के जन्मदिन की बधाई देते है.

यह भी पढ़ें: Christmas 2022: क्रिसमस ट्री पर मोजे और घंटियां लटकाने की क्या है असल वजह? जानें

क्रिसमस के कुछ दिन पहले चर्च में तरह तरह के कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं, जो नव वर्ष तक जारी रहते हैं. जैसे कि मसीह गीतों की अंताक्षरी खेली जाती है, विभिन्न प्रकार के खेल खेले जाते हैं और प्रार्थनाएं की जाती हैं आदि.