बेबी रानी मौर्य (Baby Rani Maurya) भारतीय जनता पार्टी (BJP) की नेता हैं. वह उत्तराखंड की गवर्नर (2018-2021) रह चुकी हैं. गवर्नर के पद से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में बीजेपी के टिकट पर आगरा रूरल सीट से चुनाव लड़ा और भारी मतों से जीत दर्ज की. वह आगरा की पहली महिला मेयर (1995-2000) के रूप में चर्चित हैं. 

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश MLC चुनाव से जुड़ी जरूरी बातें, कौन होंगे वोटर

बेबी रानी मौर्य ने 1990 के दशक की शुरुआत में भारतीय जनता पार्टी जॉइन की. इसके बाद 1995 में वह आगरा की पहली महिला मेयर चुनी गईं. 1997 में उन्हें बीजेपी के शेड्यूल कास्ट (SC) विंग की पदाधिकारी बनाई गईं. राम नाथ कोविंद, जो अब भारत के राष्ट्रपति हैं, उस समय एससी विंग के अध्यक्ष थे. 2002 से 2005 तक उन्होंने राष्ट्रीय महिला आयोग में कार्य किया. उन्होंने 26 अगस्त 2018 से सितंबर 2021 तक उत्तराखंड के सातवें राज्यपाल के रूप में कार्य किया. उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा करने से दो साल पहले ही इस्तीफा दे दिया. 

बेबी रानी मौर्य का जन्म 15 अगस्त 1956 को एक दलित परिवार (Baby Rani Maurya caste) में हुआ था. उनके पास बैचलर ऑफ एजुकेशन और मास्टर ऑफ आर्ट्स की डिग्री है.

यह भी पढ़ें: UP Election की सबसे ग्लैमरस प्रत्याशी Archana Gautam का क्या हुआ?

मौर्य 1990 के दशक की शुरुआत में एक बैंक अधिकारी प्रदीप कुमार मौर्य से शादी के बाद राजनीति में सक्रिय हुईं, जो अब इसके निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त होने के बाद पंजाब नेशनल बैंक के सलाहकार बोर्ड में कार्यरत हैं.

बीजेपी ने मौर्य को 2007 के उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में एत्मादपुर सीट से टिकट दिया. हालांकि, वह अपने बहुजन समाज पार्टी के प्रतिद्वंद्वी नारायण सिंह सुमन से हार गई थीं. उत्तराखंड के गवर्नर के पद से इस्तीफा देने के बाद 2022 यूपी विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कर बेबी रानी मौर्य उपमुख्यमंत्री पद की दावेदार हैं. 

यह भी पढ़ें: UP Election Results 2022: राजा भैया की जनसत्ता दल लोकतांत्रिक ने कितनी सीटें जीतीं?