What is Uniform Civil Code: देश में एक बार फिर समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) की चर्चा होने लगी है. इसे लेकर पूरे देश में बहस छिड़ गई है. इस मुद्दे पर सभी विपक्षी दल अपने-अपने तर्क देकर सवाल उठा रहे हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि समान नागरिक संहिता क्या है? अगर नहीं तो हम आपको आसान भाषा में बताएंगे. यह भी जानेंगे कि यह किन-किन देशों में लागू है?

यह भी पढ़ें: Political Opinion: मौजूदा राजनीति में अपने-अपने नहीं रहे तो जनता के कौन!

क्‍या है समान नागरिक संहिता (What is Uniform Civil Code)

समान नागरिक संहिता का मतलब है एक देश और एक कानून. जिस देश में समान नागरिक संहिता लागू होती है, उस देश में विवाह, तलाक, बच्चा गोद लेना, संपत्ति का बंटवारा और अन्य सभी विषयों को लेकर जो भी कानून बनाए गए हैं, उनमें सभी धर्मों के नागरिकों को समान रूप से मानना पड़ता है. वर्तमान समय में भारत में कई पर्सनल कानून धर्म के आधार पर तय किये जाते हैं. ऐसे में अगर भविष्य में समान नागरिक संहिता लागू होती है तो देश में सभी धर्मों के लिए एक ही कानून लागू होगा, जिसका फैसला भारतीय संसद करेगी.

यह भी पढ़ें: क्यों और कब लगाई गई थी भारत में इमरजेंसी? जानें इसके पीछे की पूरी सच्चाई

इसे भारत में क्यों लागू नहीं किया जा सका

समान नागरिक संहिता का उल्लेख पहली बार ब्रिटिश काल के दौरान 1835 में किया गया था. उस वक्त ब्रिटिश सरकार की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि अपराध, सबूत और कॉन्ट्रैक्ट जैसे मुद्दों पर एक समान कानून लागू करने की जरूरत है. संविधान के अनुच्छेद-44 में सभी नागरिकों के लिए समान कानून लागू करने की बात कही गई है. लेकिन फिर भी इसे अब तक भारत में लागू नहीं किया जा सका. इसका मुख्य कारण भारतीय संस्कृति की विविधता है. यहां एक ही घर के सदस्य भी कई बार अलग-अलग रीति-रिवाजों का पालन करते हैं. जनसंख्या के हिसाब से हिंदू बहुसंख्यक हैं, लेकिन फिर भी उनके रीति-रिवाज अलग-अलग राज्यों में बहुत अलग-अलग होंगे. सिख, जैन, बौद्ध, ईसाई और मुस्लिम आदि सभी धर्मों के लोगों के अपने-अपने अलग-अलग कानून हैं. ऐसे में अगर समान नागरिक संहिता लागू हो गई तो सभी धर्मों के कानून अपने आप खत्म हो जाएंगे.

यह भी पढ़ें: What is H1B Visa: क्या है H1B वीजा? जानिये इसके फायदे और आवश्यक योग्यता

विश्व में कहां-कहां लागू है समान नागरिक संहिता

अगर दुनिया में समान नागरिक संहिता की बात करें तो ऐसे कई देश हैं जहां यह लागू है. इस सूची में अमेरिका, आयरलैंड, पाकिस्तान, बांग्लादेश, मलेशिया, तुर्की, इंडोनेशिया, सूडान, मिस्र जैसे देशों के नाम शामिल हैं. यूरोप में ऐसे कई देश हैं जो धर्मनिरपेक्ष कानून का पालन करते हैं, जबकि इस्लामिक देश शरिया कानून का पालन करते हैं.