Ola Uber Bike Services Banned in Delhi: देश की राजधानी दिल्ली में लाइफ को आसान बनाने के लिए टू व्हीलर टैक्सी चलाई जाती थी. जाम में फंसने से बचने के लिए लोग Ola, Uber या  Rapido बाइक टैक्सी कर लेते हैं. इससे समय और पैसों दोनों की बचत होती थी लेकिन अब सरकार ने इसे दिल्ली में पूरी तरह से बैन कर दिया है. इसके पीछे का कारण भी दिल्ली सरकार ने बताया है. दिल्ली में बिना कॉमर्शियल लाइसेंस के लोग धड़ल्ले से बाइक टैक्सी सर्विस लोगों को दे रहे थे लेकिन ऐसा करते पाए जाने पर उस ड्राइवर को दंड भुगतना होगा. चलिए आपको इसकी डिटेल देते हैं.

यह भी पढ़ें: कौन हैं शिवसेना के MLA प्रकाश फतेरपेकर? जिनके बेटे ने सोनू निगम के साथ धक्का-मुक्की की

ओला-उबर जैसी बाइक सर्विसेस बैन कर दी गई हैं? (Ola Uber Bike Services Banned in Delhi)

दिल्ली परिवहन विभाग ने एक सर्कुलर जारी किया है जिसमें बाइक पर सवारियां ढोने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाने की चेतावनी दी गई है. नोटिस के अनुसार, मोटर व्हीकर एक्ट 1988 के तहत किसी भी तरह के दो पहिया वाहनों पर सवारियों को ढोना दंडनीय अपराध बताया गया है. अगर कोई ऐसा करता पाया गया तो उसे पहली बार में 5000 रुपये और दूसरी बार में 10000 रुपये जुर्माना के तौर पर देना होगा. अगर वो फिर भी नहीं माना और जुर्माना भी नहीं दिया तो 1 साल की सजा के साथ बाइक को भी सीज कर दिया जाएगा. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार ने ये नोटिस निकाला है. इसमें बिना परमीशन के बाइक टैक्सी चलाने वाले ओला, उबर और रैपिडो को चेतावनी पहले भी दी गई थी.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि दिल्ली सरकार की तरफ से तीनों प्रमुख बाइक टैक्सी कंपनियों पर लोग लगाया गया है तो बाकी कुछ स्टेट्स भी ऐसा कर सकते हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ राज्यों में भी ऐसे ही बड़े फैसले हो सकते हैं. साल 2019 में मोटर वाहन अधिनियम में कुछ संशोधन किए गए थे जिसमें एक प्रावधान रखा गया था कि कोई भी एग्रीगेटर बिना वैद्य लाइसेंस के काम नहीं कर सकता.

यह भी पढ़ें: Hyderabad Dog Attack: सिक्योरिटी गार्ड के 4 साल के बच्चे को कुत्तों ने नोच खाया, रोंगटे खड़े कर देगा VIDEO