आपको कोहिनूर (Kohinoor) हीरे के बारे में तो जानते ही होंगे, जिसे अंग्रेज 19वीं शताब्दी में लूटकर अपने देश इंग्लैंड ले गए थे. इस देश की महारानी के ताज में लगा हीरा हमेशा चर्चा में बना रहता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कोहिनूर के अलावा भी भारत (India) की कुछ ऐसी बेशकीमती चीजें हैं जिसे अंग्रेज लूटकर अपने साथ ले गए थे. अपने इस लेख में हम आपको उन 5 अनोखी चीजों के बारे में बताएंगे जो आज भी ब्रिटिश म्यूजियम में रखी हुई हैं.

यह भी पढ़ेंः क्या है ताजमहल के बंद 22 कमरों के पीछे का राज? जानकर रह जाएंगे दंग

1. टीपू सुल्तान की अंगूठी

अंग्रेजों से लड़ते-लड़ते मैसूर के अंतिम राजा की मृत्यु हो गई थी जिसके बाद उन्होंने टीपू सुल्तान (Tipu Sultan) की अंगूठी और तलवार छीन ली थी. हालांकि एक रिपोर्ट के मुताबिक, विजय माल्या ने इसे 1.57 करोड़ रुपये की नीलामी में खरीदा था जिसके बाद तलवार साल 2004 में भारत लौट आई थी परंतु नीलाम होने के बाद भी अंगूठी इंग्लैंड में ही रखी हुई है. अंगूठी पर देवनागरी लिपि में ‘राम’ अंकित होने की वजह से ये बेशकीमती चीज विवाद में फंस गई थी जिस वजह से आज भी ये ब्रिटिश म्यूजियम में रखी हुई है.

2. सुल्तानगंज बुद्ध

भारतीय मूर्तिकारों ने इसे बनाने में बहुत मेहनत की थी. इस मूर्ति की लंबाई 2 मीटर से ज्यादा है और वजन 500 किलोग्राम से अधिक. लगभग 700 वर्षों तक दफन रहने के बाद 1862 में रेलवे निर्माण के दौरान एक ब्रिटिश रेलवे इंजीनियर ई.बी हैरिस ने इसकी खोज की थी. बता दें कि आज ये मूर्ति बर्मिंघम म्यूजियम में रखी हुई है.

यह भी पढ़ेंः 11 May को क्यों मनाया जाता है National Technology Day? इतिहास, महत्व जानें

3. अमरावती मार्बल्स

अमरावती मार्बल्स लगभग 100 ईसवी सन् के चूना पत्थर से बने 120 मूर्तियों और शिलालेखों का एक शानदार और खूबसूरत कलेक्शन है. साल 1859 में मद्रास से अंग्रेजों की खुदाई के बाद इसे अब ब्रिटिश संग्रहालय लंदन में रखा गया है. नवभारत टाइम्स के अनुसार, लगभग 140 साल पहले अंग्रेजों द्वारा खुदाई से निकली मूर्तियों को 1859 में मद्रास से ब्रिटेन भेज दिया गया था जिन्हें 30 से अधिक वर्षों तक संग्रहालय के तहखानों में रखा गया था.

यह भी पढ़ेंः देश में एक गजब की जगह, यहां दो नदियां मिलकर बनाती हैं भारत का नक्शा

4. टीपू टाइगर

इसमें एक बाघ यूरोपीय कपड़े पहने सिपाही पर अटैक कर रहा है. बता दें कि दरअसल इस बाघ के अंदर एक वाद्य यंत्र छिपा हुआ है जिसके एक हैंडल को अगर घुमाया जाए तो यंत्र बजने लगेगा. इसमें मरने वाले व्यक्ति की रोने की आवाज आती है और उसके हाथ ऊपर-नीचे होने लगते हैं. दरअसल इसका निर्माण विशेष रूप से अंग्रेजों के प्रति टीपू सुल्तान (Tipu Sultan) की नफरत को दिखाने के लिए किया गया था.

5. शाहजहां का वाइन कप

इस वाइन कप को साल 1657 में मुगल सम्राट शाहजहां के लिए चीन, ईरान, यूरोप और भारत से प्रेरणा लेकर बनाया गया था. इस जार के नीचे कमल फूल की आकृति है और आगे की तरफ बकरी और सींग वाला जानवर है. 19वीं सदी में कर्नल चार्ल्स सेटन गुथरी ने इस खूबसूरत वाइन जार को चुराकर इंग्लैंड भेज दिया था. बता दें कि 1962 से इसे लंदन के विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में रखा गया है.

यह भी पढ़ेंः Rabindranath Tagore की ये 10 बातें बदल सकती हैं आपका जीवन, जानें