अल्पसंख्यक मामलों का विभाग संभालने वाले केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi)ने 6 जुलाई 2022 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. इनके अलावा इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह की भी आज कैबिनेट की आखिरी बैठक थी. इन दोनों केंद्रीय मंत्रियों के इस्तीफे के बाद स्मृति ईरानी (Smriti Irani)और ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की जिम्मेदारियां और बढ़ा दी गई है.

यह भी पढ़ें: पीटी उषा समेत 4 दिग्गज पहुंचेंगे राज्यसभा, पीएम मोदी ने ट्वीट कर कही ये बात

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी को अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय का प्रभार दिया गया है. वहीं, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस्पात मंत्रालय का प्रभार दे दिया गया है.

यह भी पढ़ें: केरल: मंत्री साजी चेरियन ने दिया इस्तीफा,संविधान पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

बता दें कि मुख्तार अब्बास नकवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के बाद अपने पद से इस्तीफा दिया था. नकवी आज अपनी आखिरी बैठक में शामिल हुए थे. इस बैठक में पीएम मोदी ने मंत्री के तौर पर नकवी के योगदान की तारीफ भी की थी. इनके साथ ही इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह भी आज अपनी आखिरी कैबिनेट बैठक में शामिल हुए थे. इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने दोनों केंद्रीय मंत्रियों को विदाई देते हुए कहा था कि दोनों ने मंत्री रहते हुए देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है.

यह भी पढ़ें: VIDEO: लालू यादव की हालत में सुधार नहीं, अब इलाज के लिए लाया जा रहा दिल्ली

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इन दोनों ही मंत्रियों का राज्यसभा कार्यकाल 7 जुलाई को समाप्त हो रहा है. मुख्तार अब्बास नकवी राज्यसभा के सदस्य थे. उनका कार्यकाल गुरुवार को खत्म होने जा रहा है. नकवी को इस बार भाजपा ने राज्यसभा नहीं भेजा है. ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है.

यह भी पढ़ें: सरकार ने बदले बूस्टर डोज के नियम, अब 9 की जगह इतने महीनों बाद लगेगा टीका

मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में जदयू कोटे से मंत्री आरसीपी सिंह का भी गुरुवार को राज्यसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है. नकवी और आरसीपी सिंह फिलहाल 6 जुलाई के बाद किसी भी सदन में नजर नहीं आएंगे. हालांकि बिना सांसद रहे भी 6 महीने तक मंत्री रह सकते हैं, लेकिन पीएम मोदी ने दोनों से इस्तीफा ले लिया.