हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Hyderabad MP Asaduddin Owaisi) ने जनसंख्या नियंत्रण पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की हालिया टिप्पणी का जवाब देते हुए दावा किया है कि देश में मुसलमानों की आबादी नहीं बढ़ रही है और कंडोम का सबसे ज्यादा इस्तेमाल मुसलमान ही कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कौन थे भंवर लाल शर्मा? 7 बार विधायकी संभालने वाले कांग्रेस नेता का निधन

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद में एक सभा को संबोधित किया. उन्होंने खुद इसका वीडियो ट्वीट किया है. वीडियो में ओवैसी को यह कहते हुए सुना जा सकता है, “मुसलमानों की आबादी नहीं बढ़ रही है. तुम लोगों को टेंशन लेने की जरूरत नहीं है कि आबादी बढ़ रही है. नहीं बढ़ रही, आबादी गिर रही. आबादी गिर रही हमारी.”

यह भी पढ़ें: Noida: नशे में लड़की ने गार्ड के साथ की बदसलूकी, कॉलर पकड़ा, देखें VIDEO

उन्होंने कहा, “मोहन भागवत ने कहा कि भारत में मज़हबी असंतुलन हो रहा है. हमारे मुल्क में टोटल फर्टिलिटी रेट बहुत गिरा है और सबसे ज्यादा कमी मुसलमानों में आई है. हम मोहन भागवत से कहना चाहते हैं कि मुसलमानों की आबादी नहीं बढ़ रही. हमारी आबादी घट रही है. सबसे ज़्यादा कॉन्डम कौन इस्तेमाल करता है, हम कर रहे हैं. लेकिन मोहन भागवत ये नहीं बताएंगे.”

ओवैसी की टिप्पणी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान के बाद आई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत को जनसंख्या नियंत्रण के लिए “समान रूप से सभी पर लागू” नीति की आवश्यकता है. आरएसएस की वार्षिक दशहरा रैली में अपनी टिप्पणी में उन्होंने जनसंख्या में ‘धर्म-आधारित असंतुलन’ और ‘जबरन धर्मांतरण’ का भी हवाला दिया था. 

यह भी पढ़ें: उपचुनाव: BJP ने गोला गोकर्णनाथ, आदमपुर और मुनुगोड़े सीट से किसे बनाया प्रत्याशी, जानें

ओवैसी ने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण का हवाला देते हुए कहा कि मुसलमानों का टोटल फर्टिलिटी रेट (टीएफआर) सबसे ज्यादा गिरा है. 

ओवैसी ने गुजरात में हाल की उस घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया जिसमें गरबा सभा में पत्थर फेंकने के आरोपी पुरुषों को एक पोल से बांध दिया गया था और सार्वजनिक रूप से लाठियां मारी गई थीं. उन्होंने कहा, “क्या यह हमारी गरिमा है? प्रधानमंत्री जी, आप गुजरात से हैं, आप मुख्यमंत्री थे और आपके राज्य में मुसलमानों को एक पोल से बांधकर लाठी मारी जाती है और भीड़ सीटी बजाती है. कृपया अदालतें बंद करें, पुलिस बल को बर्खास्त करें.”