When Indian Prime Minister Presented the Budget: देश का आम बजट 2023-24 (Budget 2023-24) एक फरवरी को पेश होने जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार का यह 11वां बजट होगा. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) सुबह 11 बजे ससंद (Parliament) में देश की आय-व्यय का पूरा ब्योरा जनता के सामने पेश करेंगी. आम तौर पर केंद्र सरकार में वित्त मंत्री बजट पेश करने के लिए जिम्मेदार होता है, लेकिन भारतीय इतिहास में ऐसे तीन मौके आए हैं जब प्रधानमंत्री को इसे पेश करना पड़ा है. आइए जानते हैं इनके बारे में.

यह भी पढ़ें: Republic Day 2023 Chief Guest: गणतंत्र दिवस 2023 के मुख्य अतिथि कौन होंगे? जानें

जवाहर लाल नेहरू ने पेश किया था बजट

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जिन्होंने प्रधानमंत्री रहते हुए 13 फरवरी 1958 को पहली बार वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभाला. दरअसल, तत्कालीन वित्त मंत्री टीटी कृष्णाचारी के इस्तीफे के बाद यह जिम्मेदारी उनके कंधों पर आ गई और जवाहर लाल नेहरू ने 1958-59 का आम बजट पेश किया.

यह भी पढ़ें: Guard of Honour क्या है और किसे दिया जाता है?

इंदिरा गांधी ने भी पेश किया था बजट

आम बजट पेश करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बाद इंदिरा गांधी देश की दूसरी प्रधानमंत्री बनीं. उस समय इंदिरा सरकार में वित्त मंत्री मोरारजी देसाई के कैबिनेट से इस्तीफे के बाद उन्होंने वित्त मंत्री का पद संभाला था. इस तरह इंदिरा गांधी पहली महिला वित्त मंत्री बनीं. प्रधानमंत्री रहते हुए, उन्होंने वित्तीय वर्ष 1970-71 के लिए आम बजट पेश किया. ऐसा करके वह बजट पेश करने वाली पहली महिला भी बनीं.

यह भी पढ़ें: इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट शरद यादव का राजनीतिक सफर 10 प्वाइंट में जानें

राजीव गांधी का नाम भी इस लिस्ट में है शामिल

इस लिस्ट में आखिरी नाम देश के युवा प्रधानमंत्री राजीव गांधी का है. तत्कालीन वित्त मंत्री वीपी सिंह के सरकार से बाहर होने के बाद प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने भी वित्त मंत्री का पद संभाला था. राजीव गांधी ने वित्तीय वर्ष 1987-88 का आम बजट पेश किया. इसके साथ ही राजीव गांधी ऐसा करने वाले नेहरू-गांधी परिवार के तीसरे सदस्य बन गए.