कांग्रेस पार्टी में एक बार फिर बड़ी हलचल देखने को मिली है. कांग्रेस ने जम्मू कश्मीर संगठन में बड़ा बदलाव किया था. इसके तहत गुलाम नबी आजाद को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई थी. लेकिन जिम्मेदारी सौंपने के कुछ घंटे बाद ही उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. अब इससे सियासी हलचल तेज हो गई है.

जम्मू कश्मीर में आगामी चुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने संगठन को मजबूत करे के लिए कई नियुक्तियां की थी. इसमें गुलाम नबी आजाद का नाम भी शामिल था. कांग्रेस आलाकमान ने गुलाम नबी आजाद को अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया था. लेकिन उन्हें ये जिम्मेदारी देने के बाद ही उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया है.

यह भी पढ़ेंः भारतीय फुटबॉल के खिलाफ FIFA की कार्रवाई पर क्या बोले बाइचुंग भूटिया

हालांकि, इसका सही कारण नहीं पता चल सका है. लेकिन समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, सूत्रों के हवाले से बताया है कि, गुलाम नबी आजाद ने स्वास्थ्य कारणों से जम्मू-कश्मीर के अभियान समिति के अध्यक्ष का पद संभालने से इनकार कर दिया है. उन्होंने इस बात से कांग्रेस नेतृत्व को अवगत करा दिया है और उन्हें जिम्मेदारी देने के लिए नेतृत्व को धन्यवाद भी दिया है.

य़ह भी पढ़ेंः Bihar Cabinet: बिहार कैबिनेट में जातीय संतुलन की कोशिश, नीतीश और तेजस्वी के पास अहम विभाग

आपको बता दें, पार्टी ने वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को अभियान समिति का अध्यक्ष और तारिक हामिद कर्रा उपाध्यक्ष नियुक्त किया था. गुलाम नबी आजाद को राजनीतिक मामलों की समिति और समन्वय समिति का प्रमुख भी बनाया गया. वहीं घोषणापत्र समिति का प्रमुख प्रो. सैफुद्दीन सोज और उपाध्यक्ष अधिवक्ता एमके भारद्वाज को बनाया गया.

यह भी पढ़ेंः Bihar cabinet minister list: नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में शामिल हुए ये 31 नाम, देखें पूरी लिस्ट

पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की तरफ से विज्ञप्ति जारी कर घोषणाएं की गई थी. जिसमें सभी को जिम्मेदारी सौंपी गई थी. लेकिन अब गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे से सियासी हलचल तेज हो गई है.