Firecrackers ban; दिवाली 2022 से पहले दिल्ली, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, हरियाणा और पंजाब जैसे कई राज्यों ने प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए पटाखे फोड़ने पर या तो बैन लगा दिया है या पटाखों की खरीद और उपयोग को सीमित किया है. शर्दियों की शुरुआत से दिल्ली NCR और देश के अन्य इलाकों में प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगता है और दिवाली पर पटाखे फोड़े जाने से इस समस्या में और इजाफा होता है. आइए जानें  पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल को लेकर देश के किस राज्य में क्या नियम तय किए गए हैं. 

यह भी पढ़ें: Diwali 2022 Bank Holidays: दिवाली पर लगातार 6 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखे लिस्ट

दिल्ली

राज्य में वायु और ध्वनि प्रदूषण के स्तर को नियंत्रित करने के लिए दिल्ली में पटाखों के उत्पादन, भंडारण, बिक्री और फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इस साल दीवाली पर पटाखे फोड़ते या बेचते पाए जाने वालों पर 200 रुपये से लेकर 5,000 रुपये तक का जुर्माना और/या तीन साल की सजा की घोषणा की गई है. 

यह भी पढ़ें: Dhanteras 2022: धनतेरस पर चांदी खरीदें या सोना? जानें किसमें होगा फायदा

मुंबई

मुंबई पुलिस ने शहर में बिना इजाजत पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी है. बिना लाइसेंस पटाखा बेचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

चेन्नई

चेन्नई पुलिस ने शहर में दिवाली मनाने को लेकर कई तरह की पाबंदियां भी जारी की हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार, शहर में केवल ग्रीन पटाखों की अनुमति है. वो भी केवल दो घंटे के लिए यानी सुबह 6 बजे से 7 बजे तक और शाम 7 बजे से रात 8 बजे तक. पुडुचेरी में पटाखे फोड़ने के लिए यही समय तय किया गया है. चेन्नई में सभी चाइनीज पटाखों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है.

यह भी पढ़ें: दिवाली पर सज गई अयोध्या नगरी, दीपोत्सव की पूरी है तैयारी, देखें VIDEO

जयपुर

अगर आप अपने प्रियजनों के साथ पटाखे फोड़कर दिवाली मनाना चाहते हैं, तो जयपुर आपके लिए डेस्टिनेशन है. शहर में करीब 107 दुकानों को पटाखों की बिक्री के लिए लाइसेंस दिए गए हैं.

चंडीगढ़

चंडीगढ़ और पंजाब के अन्य हिस्सों में राज्य सरकार ने शहर में ग्रीन पटाखे फोड़ने के लिए दो घंटे का समय दिया है. दिवाली पर रात 8 बजे से रात 10 बजे तक लोगों को पटाखे जलाने की इजाजत है.

यह भी पढ़ें: Dhanteras 2022: धनतेरस के दिन गलती से भी न खरीदें ये 10 चीजें

पुणे

पुणे नगर निगम (PMC) ने भी शहर में अवैध पटाखों के स्टॉल चलाने पर सख्त नीति बनाई है. पीएमसी प्रशासन ने खुली जगहों पर अस्थाई पटाखों के स्टॉल की अनुमति दी है. सड़कों, फुटपाथों और भीड़भाड़ वाले इलाकों में स्टॉल लगाने पर पूरी तरह से रोक है.

अहमदाबाद

अहमदाबाद इस साल रोशनी का त्योहार धूमधाम से मनाने जा रहा है. हालांकि, रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने शहर में कई तरह के पटाखों की बिक्री पर रोक भी लगाई है. अधिकारियों ने शहर में पटाखे फोड़ने के लिए रात 8 बजे से रात 10 बजे तक दो घंटे का समय दिया है.

यह भी पढ़ें: धनतेरस क्यों मनाया जाता है?

उड़ीसा

ओडिशा सरकार ने भुवनेश्वर में सात अलग-अलग स्थानों पर पटाखों की बिक्री और उपयोग की अनुमति दी है. इसके अलावा पटाखों के निर्माण, बिक्री और फोड़ने पर किसी भी तरह की आधिकारिक रोक की अधिसूचना जारी नहीं की गई है.