Dhirendra Krishna Shastri Controversy in Hindi: सोशल मीडिया पर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बागेश्वर धाम सरकार के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri Controversy) छाए रहते हैं. अक्सर उनके कई वीडियोज लोग सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं. आपको मालूम हो कि विवादों से उनका पुराना नाता रहा है. हाल ही में वे फिर से एक बार सुर्खियों में हैं. धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri Controversy in Hindi) पर आरोप है कि वे नागपुर में कथा बीच में ही छोड़कर चले गए थे. वहीं, धीरेंद्र कृष्ण लगातार अपने विरोधियों को जवाब दे रहे हैं. चलिए आपको डिटेल में उनके विवाद के बारे में बताते हैं.

यह भी पढ़ें: असल में कौन हैं बागेश्वर धाम वाले धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री?

बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर क्या आरोप लगे हैं?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने का आरोप लगा है. धीरेंद्र के खिलाफ नागपुर में पुलिस केस दर्ज किया गया है. बता दें कि नागपुर की अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति ने उनके खिलाफ केस दर्ज कराया है. समिति का कहना है कि अगर पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करती है तो कोर्ट की तरफ रुख करेंगे. वहीं, धीरेंद्र ने पलटवार करते हुए कहा है कि ये सब धर्म विरोधी लोगों का कारनामा है.

यह भी पढ़ें: कौन हैं Saurish Sharma Astrologer? जिन्होंने देखा बिग बॉस 16 के कंटेस्टेंट्स का भविष्य

बता दें कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने चमत्कार को चुनौती देने वालों को जवाब देते हुए कहा कि ‘हाथी चले बाजार, कुत्ते भौंके हजार.’ नागपुर में कथा कर बागेश्वर धाम लौटे धीरेंद्र ने कहा कि ‘हम सालों से बोल रहे हैं कि न हम कोई चमत्कारी हैं, न हम कोई गुरु हैं. बता दें कि नागपुर की अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति ने आरोप लगाया था कि धीरेंद्र शास्त्री ने चमत्कार के दावे पर कानून का उल्लंघन किया है.

यह भी पढ़ें: Dhirendra Krishna Shastri Family: बागेश्वर धाम वाले धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के परिवार में कौन-कौन हैं?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि श्याममानव ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को चुनौती दी है और उन्होंने कहा है कि अगर वे सही साबित होते हैं तो हम उन्हें 30 लाख रुपये देंगे, लेकिन धीरेंद्र शास्त्री चुनौती को अस्वीकार करते हुए 2 दिन पहले ही कथा खत्म कर वहां से निकल गए. समिति ने मांग की है कि धीरेंद्र शास्त्री को गिरफ्तार किया जाए.