भारत (India) की राजधानी दिल्ली (Delhi) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) की स्थिति में कोई सुधार देखने को नहीं मिल रहा है. हालत और खराब होती ही जा रही है. इसी के चलते दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने अपने दफ्तरों में 50 प्रतिशत वर्क फ्रॉम होम कर दिया है. ये जानकारी दिल्ली के मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने साझा की. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने शुक्रवार को कहा कि जब तक स्थिति में सुधार नहीं हो जाता. हम लोग दिल्ली के प्राइमरी स्कूल, प्राइमरी क्लासेज बंद कर रहे हैं. वहीं, राजधानी में ऑड इवन पर भी विचार चल रहा है.

यह भी पढ़ें: गुजरात विधानसभा चुनाव: 1 और 5 दिसंबर को दो चरणों में वोटिंग, यहां देखें पूरा शेड्यूल

दिल्ली में जहरीली हवा के चलते स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी समस्या का सामना करना पड़ता है. बच्चों को सुबह-सुबह अपने घर से निकलना पड़ता है. डॉक्टर कहते हैं कि ये हवा बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है. बाहर निकलने से बचना बहुत जरूरी है. बता दें कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग भी स्कूल बंद करने की सिफारिश कर चुका था. वहीं, कई पेरेंट्स का भी कहना था कि स्थिति में सरकार को स्कूल बंद करने के लिए सोचना चाहिए.

यह भी पढ़ें: MCD Elections 2022 का शंख नाद, जानें चुनाव से जुड़ी एक-एक बात

दिल्ली पेरेंट्स एसोसिएशन ने भी दिल्ली सरकार से सभी स्कूलों को तब तक बंद करने की मांग की थी जब तक प्रदूषण का स्तर गिर न जाए. एसोसिएशन की प्रेसिडेंट अपराजिता गौतम ने कहा था कि जो बच्चे दमे या एलर्जी के मरीज हैं उन्हें इस समय बहुत समस्या का सामना करना पड़ता है. सेहतमंद बच्चों तक में लक्षण आ रहे हैं. ऐसे में स्कूल को कुछ दिन के लिए बंद कर देना ही उचित रहेगा. वहीं, इस दौरान बच्चों की क्लासेज ऑनलाइन चलाई जा सकती हैं.