उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) लोकसभा उपचुनाव के नतीजे सामने आ चुके हैं. इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी और भोजुपुरी सिनेमा के स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को जीत मिली है. आजमगढ़ सीट पर आखिरकार निरहुआ ने जीत हासिल कर ही ली. इससे पहले साल साल 2019 में निरहुआ को सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बुरी तरह हराया था. अखिलेश यादव 2.5 लाख से भी अधिक वोटों से जीत हासिल की थी. लेकिन अखिलेश यादव के सीट छोड़ने के बाद उपचुनाव में दिनेश लााल यादव ने इसे जीत लिया है. उन्होंने अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को इस सीट पर मात दी है.

यह भी पढ़ेंः VIDEO: रामपुर सीट पर मिली हार पर आजम खां ने कार्यकर्ताओं से कहा- ‘घृणा का जवाब घृणा से न दें’

चुनाव नतीजों के मुताबिक, दिनेश लाल यादव निरहुआ को कुल 312768 वोट मिले हैं. जबकि समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव को 304089 वोट मिले. वहीं, बसपा उम्मीदवार गुड्डू जामिल को 266210 वोट मिले.

ऐसा माना जा रहा है कि, आजमगढ़ में बसपा ने ही सपा का खेल बिगाड़ा है. बसपा ने रामपुर में वाकओवर दिया और आजमगढ़ में अपना उम्मीदवार उतारकर सपा के सारे समीकरण को बिगाड़ दिया.

यह भी पढ़ेंः Tripura Byelection Results: त्रिपुरा में 3 सीट BJP और 1 सीट कांग्रेस के खाते में

आजमगढ़ की सीट पर हार के बाद सपा प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव ने कहा, मैं अपनी हार के लिए बसपा-भाजपा के गठबंधन को बधाई दूंगा जो प्रत्यक्ष तौर पर राष्ट्रपति के चुनाव में सामने आया और आजमगढ़ के चुनावों में पहले से चल रहा था. उन दोनों (बसपा और भाजपा के) लोगों को अपनी खुशी का इजहार करना चाहिए.

यह भी पढ़ेंः कौन हैं घनश्याम सिंह लोधी? रामपुर लोकसभा सीट पर जीता उपचुनाव

आजमगढ़ में सियासी खेल काफी दिलचस्प रहा. बसपा ने आजमगढ़ में गुड्डू जामिल को मैदान में उतारकर मुस्लिम-दलित गठजोड़ का बड़ा दांव खेला था. वहीं, बीजेपी ने दिनेश लाल यादव को उतारकर सपा के यादव वोट बैंक में जबरदस्त सेंधमारी की. बसपा और बीजेपी की चक्रव्यू को तोड़ने के लिए सपा ने बदायूं के पूर्व सासंद धर्मेंद्र यादव पर अपना सिक्का खेला लेकिन नतीजे उसके मुताबिक नहीं रहे.