देश में गुजरात और हिमाचल प्रदेश (Gujarat-Himachal Pradesh) में विधानसभा चुनाव समेत यूपी, बिहार, ओडिशा, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में विधानसभा उपचुनाव और एक लोकसभा सीट पर नतीजों को घोषित किया गया. गुजरात में 182, हिमाचल प्रदेश में 68, बिहार में 1, यूपी में 2, राजस्थान में 1, ओडिशा में 1 और छत्तीसगढ़ में 1 सीट पर चुनाव के नतीजे जारी किये गए. इसके साथ यूपी के मैनपुरी लोकसभा सीट पर भी उपचुनाव पर रिजल्ट आ गया. यानी देश में 257 सीटों पर चुनाव के नतीजे सामने आए. दिलचस्प बात ये है कि, 257 सीटों पर हुए चुनाव में असल में किसे फायदा हुआ ये आकलन मुश्किल हो गया है. क्योंकि, जहां बीजेपी के हाथ गुजरात लगा है वहीं, कांग्रेस के हाथ हिमाचल प्रदेश लग गई है. जबकि आम आदमी पार्टी गुजरात में अपना खाता खोलकर राष्ट्रीय पार्टी बन गई है. दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी मैनपुरी में अपनी विरासत बचाने में कामयाब हो गई. वहीं रामपुर सीट खो दिया है.ऐसे में किस पार्टी को ज्यादा फायदा हुआ है और किस पार्टी को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ आप इसे आगे पढ़ने के बाद बताएं.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली नगर निगम पर AAP का कब्जा, जानें किसे कितनी मिली सीटें

पहले गुजरात की बात करते हैं. यहां बीजेपी ने 182 सीट में 156 सीट पर जीत हासिल कि है. गुजरात में बीजपी सातवीं बार सरकार बना रहा है. वहीं, गुजरात में पिछली बार 99 सीट लाने वाली बीजेपी इस बार 150 का आंकड़ा पार कर 156 सीटों पर जीत हासिल की है. ये पहली बार है जब बीजेपी गुजरात में 150 से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल की है. वहीं, कांग्रेस का गुजरात में अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन रहा है. पिछली बार 77 सीट जीतने वाली कांग्रेस 17 पर सिमट गई. हालांकि, गुजरात में आम आदमी पार्टी को केवल 5 सीटें मिली है लेकिन पहली बार गुजरात में हाथ आजमाने वाली AAP 5 सीटों से खाता खोलकर राष्ट्रीय पार्टी का तमगा हासिल कर लिया है. ये आप के लिए बड़ी उपलब्धि है.

यह भी पढ़ेंः गुजरात तो ठीक है लेकिन हिमाचल, राजस्थान, यूपी, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ में BJP का बंटाधार

अब हिमाचल की बात करते हैं. हिमाचल में गुजरात के बिलकुल उलटा रिजल्ट दिखा है. यहां कांग्रेस ने 68 में से 40 सीटों पर जीत हासिल कर सरकार बनाने की तैयारी कर रही है.वहीं, पिछली बार 44 सीट जीतने वाली बीजेपी 25 सीट पर ही सिमट गई. हिमाचल की जनता ने यहां की विधानसभा चुनाव की परंपरा को बरकरार रखते हुए बीजेपी को झटका दे दिया है. यहां हर पांच साल में सत्ता बदलने की परंपरा रही है. ऐसे में कांग्रेस को यहां जबरदस्त फायदा हुआ है तो बीजेपी को बड़ा झटका लगा है.

यह भी पढ़ेंः हिमाचल में कौन होगा कांग्रेस का CM, यहां देखें रेस में कौन-कौन शामिल

यूपी की बात करें तो यहां एक लोकसभा सीट और दो विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुआ. मैनपुरी लोकसभा सीट पर सपा अपनी विरासत बचाने में कामयाब रही. जबकि, खतौली विधानसभा सीट पर सपा-रालोद ने बीजेपी को झटका दे दिया. वहीं, रामपुर में सपा के आजम खां के गढ़ में बीजेपी ने जीत हासिल की है.

बिहार, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और ओडिशा की बात करें तो यहां एक-एक विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए थे. जिसमें बिहार में बीजेपी ने बाजी मारी, तो वहीं, छत्तीगसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस ने जीत हासिल कर बीजेपी को झटका दिया. वहीं, ओडिशा में बीजेडी ने जीत दर्ज की यहां भी बीजेपी का झटका लगा.

बहरहाल, 257 सीटों पर बीजेपी को 183 सीट, कांग्रेस को 59 सीट, आप को 5, सपा को 3, नर्दलीय 6 और बीजेडी को 1 सीट हासिल हुई है. भले ही बीजेपी को सबसे ज्यादा सीटें मिली हो लेकिन बीजेपी के हाथ से हिमाचल की सत्ता चली गई वहीं, चार राज्यों के उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा है. जबकि, कांग्रेस को हिमाचल में जीत और आम आदमी पार्टी गुजरात में एंट्री लेकर राष्ट्रीय पार्टी बन गई है.