26/11 Mumbai Attack: इस दुनिया की सबसे बड़ी समस्या आतंक है जो कुछ संगठन के लोग धर्म के नाम पर निर्दोष लोगों की जान लेकर फैलाते हैं. उनका एक ही मोटो है कि इस दुनिया में अपने आतंक को फैलकर उसपर राज कर लें. सबसे ज्यादा आतंकी हमला भारत में होता है और ऐसा माना जाता है कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में आतंकी संगठन रहते हैं जो भारत पर अपना राज करना चाहते हैं. हालांकि पाकिस्तान की सरकार ने हमेशा इस बात से इंकार किया है कि आतंकी उनके देश में रहते हैं. 26 नवंबर 2008 को भारत के इतिहास में काले दिन की तरह मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई पर सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ था. चलिए आपको उस दिन से जुड़ी कुछ खास बातें बताते हैं.

यह भी पढ़ें: 12th Fail हुई Oscar 2024 की रेस में शामिल? जानें फिल्म का टोटल कलेक्शन

15 साल पहले कैसे सहमी थी मुंबई? (26/11 Mumbai Attack)

रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 2006 में लश्कर-ए-तैयबा (LeT) ने एक प्लान बनाया जिसमें भारत में सबसे बड़ा आतंकी हमला करने की साजिश रची गई. उन्होंने पाकिस्तान से 10 लड़कों को उठाया जिनकी उम्र 18 से 25 के अंदर थी. उन लड़कों का ब्रेन वॉश किया गया और उन्हें इस घटना को अंजाम देने के लिए तैयार किया गया. खबरों में बताया गया कि 23 नवंबर को वो 10 आतंकी कराची से होते हुए समुद्री रास्ते से भारत की सीमा तक आए. यहां उन्होंने मछुआरों को बंदूक की नोक पर मुंबई तक लाने को कहा जिन्हें उन्होंने बाद में मार दिया था. इसके बाद 10 आतंकी मुंबई के मछली मार्केट के रास्ते शहर में एंटर किये. इन 10 आतंकियों ने मुंबई के ओबरॉय ट्राइडेंट होटल, ताज, छत्रपति शिवाजी रेलवे स्टेशन, नरीमन हाउस यहूदी केंद्र,लियोपोल्ड कैफे और कामा हॉस्पिटल को अपना निशाना बनाया.

इस आतंकी हमले में 200 से ज्यादा लोगों की दर्दनाक मौत हुई जबकि सैकड़ों लोग इसमें घायल हुए. इस आतंकी हमले में आतंकवाद निरोधी दस्ते (ATS) के प्रमुख हेमंत करकरे, एसीपी अशोक काम्ते, एनकाउंटर स्पेशलिस्ट विजय सालस्कर जैसे ऑफिसर शहीद हुए और साथ में लगभग 14 पुलिसकर्मी भी शहीद हुए थे. इन 10 में से 9 आतंकी की मौत हुई थी लेकिन आखिर में मुंबई पुलिस के जाबांज सब इंस्पेक्टर तुकाराम ओंबले ने लाठी के सहारे अजमल कसाब को जिंदा पकड़ लिया था, हालांकि वो शहीद भी हुए. अजमल कसाब ने इस आतंकी हमले की पूरी साजिश पुलिस को बताई और बाद में उसे नवंबर, 2012 में फांसी दे दी गई थी. कसाब ने असली मास्टर माइंड के बारे में बताया था, हालांकि इस हमले की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा (LeT) ने ली थी.

यह भी पढ़ेंछ Animal Advance Bookings: बुक होने लगी रणबीर कपूर की ‘एनिमल’ की टिकट, जानें ऑनलाइन बुकिंग का प्रोसेस