स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में शुक्रवार को 25,000 से कम कोरोना वायरस के नए मामले दर्ज होने की उम्मीद है, जोकि एक दिन पहले के रिकॉर्ड मामलों से कम हैं. उन्होंने ये भी बताया कि कोविड से जान गंवाने वालों में से लगभग 75 प्रतिशत लोगों का पूर्ण टीकाकरण नहीं हुआ था. 

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना के 12,72,073 एक्टिव मामले हैं, देखें पूरा आंकड़ा

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, शहर में गुरुवार को 28,867 कोविड-19 मामले दर्ज किए गए थे, जो महामारी शुरू होने के बाद से एक दिन में आए सबसे अधिक मामले हैं. इसके साथ ही 31 मौतें भी दर्ज की गई थीं, जबकि सकारात्मकता दर बढ़कर 29.21 प्रतिशत हो गई थी.

दिल्ली में इससे पहले एक दिन में सर्वाधिक मामले पिछले साल 20 अप्रैल को आए थे, जब एक दिन में 28,395 मामले दर्ज किए गए थे. 

यह भी पढ़ेंः आयुष मंत्रालय ने बताया, कोरोना होने से पहले बचाव के लिए किन चीजों का करें सेवन

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 9 जनवरी से 12 जनवरी के बीच दिल्ली में जिन 97 लोगों की मौत हुई, उनमें से 70 लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ था, जबकि 19 ने पहली बार टीका लिया था और सिर्फ आठ को पूरी तरह से टीका लगाया गया था.

जैन ने कहा, “कोरोना वायरस के कारण मरने वाले लगभग 75 प्रतिशत लोगों ने टीके की एक भी खुराक नहीं ली थी. टीका लगवाना महत्वपूर्ण है. ऐसे भी उदाहरण हैं जहां लोगों को कोविड-19 से अनुबंधित होने से पहले गंभीर बीमारियां थीं.”

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि शहर में 13,000 से अधिक अस्पताल के बिस्तर खाली पड़े हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 2,64,202 मामले सामने आए हैं और 315 लोगों की मौत हो गई है.

यह भी पढ़ेंः सर्दियों में रोज खाएं गाजर और मूली का चटपटा अचार, बेहतर Immunity के साथ मिलेंगे ये 4 फायदे