Platelets Facts In Hindi: शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या (Platelets Facts) को मेंटेन रखना बहुत ही जरूरी होता है. अगर किसी व्यक्ति के शरीर में प्लेटलेट्स काउंट कम हो जाते हैं, तो उस व्यक्ति को कई तरह ही बीमारियों का सामना करना पड़ता है. आपको बता दें कि प्लेटलेट्स ऐसी ब्लड सेल्स होती हैं, जो ब्लीडिंग को रोकने में मदद करती हैं. प्लेटलेट्स हमारे शरीर में ब्लड क्लॉट्स बनाने का काम करते हैं, ताकि चोट लगने पर ज्यादा खून को निकलने से रोका जा सके. शरीर मे प्लेटलेट्स की संख्या कम होने पर व्यक्ति को थ्रोम्बोसाइटोपेनिया नामक बीमारी का सामना करना पड़ सकता है. ऐसा होने की स्तिथि में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, वरना जान का भी खतरा बन सकता है.

यह भी पढ़ें: Side Effects Of Cold Water: ठंडा पानी पीने से मिलने वाला शुकुन बन सकता है मुसीबत, जान लें सटीक जानकारी

नार्मल प्लेटलेट्स कितनी होती है?

एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सामान्य प्लेटलेट काउंट (Platelets Facts) 1.5 लाख से लेकर 4.5 लाख प्लेटलेट्स प्रति माइक्रोलीटर खून में होता है. जब यह काउंट 1.5 लाख से नीचे चला जाता है. तब उस स्तिथि में लो प्लेटलेट्स की स्तिथि बन जाती है.

प्लेटलेट्स की संख्या कम होने का कारण

प्लेटलेट्स कम होने के केस में अधिकतर लोगों का मानना है कि ऐसा डेंगू की स्तिथि में होता है. लेकिन आपको बता दें कि लो प्लेटलेट्स की स्तिथि में कई अन्य कारण भी जिम्मेदार हो सकते हैं. उदाहरण के तौर पर देखें, तो इसमें खून में बैक्टीरियल संक्रमण, अस्थि मज्जा की परेशानी, आईडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा, हीमोलाइटिक यूरीमिक सिंड्रोम, हाइपरसप्लेनिज्म, स्वप्रतिरक्षित रोग इत्यादि जैसी दिक्कतें शामिल हैं.

यह भी पढ़ें: Eye Flu: आई फ्लू कैसे होता है? जान लें कारण, लक्षण और उपाय वरना सारा काम काज हो जाएगा ठप्प

प्लेटलेट्स कम होने के लक्षण

1- सामान्य चोट का गंभीर हो जाना और लंबी अवधि तक घाव से खून का बहना.

2- स्किन पर नीले रंग के छोटे छोटे लाल और बैंगनी रंग के निशान उभर आना

3- नाक और मसूड़ों से खून का आना

4- मल का रंग काला या खून जैसा दिखना

5- लाल या गुलाबी रंग का यूरिन होना

6- खून के साथ उल्टी होना

7- पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग होना

8- सिरदर्द महसूस होना

9- मांसपेशियों या जोड़ों में दर्द बने रहना

10- कमजोरी या चक्कर जैसा महसूस होना

यह भी पढ़ें: Shilajit Benefits: शिलाजीत क्या होता है? जान लें इसके सटीक तथ्यों के साथ Health Benefits

प्लेटलेट्स बढ़ाने का उपाय –

1- कद्दू

प्लेटलेट काउंट बढ़ाने के मामले में कद्दू का सेवन काफी फायदेमंद साबित होता है. विटामिन ए से समृद्ध कद्दू प्‍लेटलेट के उचित विकास में मदद करता है. यह कोशिकाओं में मौजूद उत्‍पादित प्रोटीन के स्तर को नियंत्रित करके प्‍लेटलेट के स्‍तर में वृद्धि करता है

2- नारियल पानी

बॉडी में ब्‍लड प्‍लेटलेट के संख्या को बढ़ाने के लिए नारियल का पानी बहुत लाभदायक होता है. नारियल पानी में इलेक्ट्रोलाइट्स प्रचुर मात्रा में होते हैं. इसके अलावा, यह मिनरल का भी अच्छा स्रोत होने के कारण बॉडी में ब्लड प्लेटलेट्स की कमी नहीं होने देता है.

यह भी पढ़ें: Nipah Virus Symptoms in Hindi: इन लक्षणों को नहीं करें नजरअंदाज, निपाह वायरस के हो सकते हैं लक्षण

3- पपीता

पपीता को प्‍लेटलेट की मात्रा बढाने के लिए बहुत ही लाभदायक माना जाता है, इसके फल और पत्तियां दोनों का ही इस्‍तेमाल से कुछ ही दिनों में प्‍लेटलेट की मात्रा बढ़ जाती है.

4- कीवी

कीवी एंटीऑक्सिडेंट का सबसे समृद्ध स्रोत है और इसलिए, यह डेंगू से रिकवरी के लिए बहुत ही अच्छा विकल्प माना जाता है. इसके अलावा कीवी में विटामिन सी और पोटैशियम भी होता है, जो प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मददगार साबित होता है. डेंगू के चपेट में आने वाले व्यक्ति को तुरंत कीवी खिलाना शुरु कर देना चाहिए. कीवी का नियमित सेवन डेंगू के दौरान ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने में कारगर साबित होता है.

(Disclaimer:: ये जानकारी एक सामान्य सुझाव है. इसे किसी तरह के मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें. आप इसके लिए संबंधित डॉक्टर से सलाह लें)