Nipah Virus Symptoms in Hindi: फ्लू का कहर आमतौर पर बरसात के महीनों में देखने को मिलता है. इस दौरान कई लोग संक्रमण के कारण फ्लू का शिकार हो जाते हैं और बुखार की चपेट में आ जाते हैं. लेकिन कई बार हमें कुछ ऐसा दिख जाता है जिसे हम सामान्य फ्लू समझकर नजरअंदाज कर देते हैं, लेकिन यह हमारे लिए किसी बड़े खतरे का संकेत भी हो सकता है. ऐसा ही एक खतरा इन दिनों पूरे देश पर मंडरा रहा है. कोरोना के बाद देश में निपाह वायरस का कहर देखने को मिल रहा है.

दक्षिण भारत में निपाह वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं. वहीं, स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी इस वायरस को लेकर लोगों को आगाह कर रहे हैं. ऐसे में यह जानना बेहद जरूरी है कि खतरनाक निपाह वायरस के लक्षण क्या हैं.

यह भी पढ़ें: Black Jaundice: काला पीलिया क्या होता है? जो राजू सिंगर के लिए बन गया काल, जानें लक्षण और इलाज

निपाह वायरस के लक्षणों को न करें नजरअंदाज (Nipah Virus Symptoms in Hindi)

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति निपाह वायरस के संपर्क में आता है तो उसके लक्षण 5 से 15 दिन के अंदर दिखने शुरू हो जाते हैं. सबसे पहले तो इसमें बुखार और सिर दर्द के कारण काफी परेशानी होती है. इसके साथ ही खांसी, कफ और सांस लेने में दिक्कत भी होने लगती है. जब निपाह वायरस इंसान के शरीर पर अपना असर दिखाना शुरू करता है तो बुखार के साथ-साथ गला भी खराब होने लगता है. संक्रमित व्यक्ति को उल्टी और दस्त होने लगते हैं और रोगी को बहुत कमजोरी महसूस होती है तथा उसकी मांसपेशियों में दर्द होने लगता है.

अगर आपके शरीर में हैं ये लक्षण तो इन्हें ज्यादा देर तक नजरअंदाज न करें. ऐसा करने से निपाह वायरस का संक्रमण मरीज के मस्तिष्क तक फैल सकता है. जिससे स्थिति और भी घातक हो सकती है. निपाह वायरस के कहर के दौरान किसी भी व्यक्ति को सामान्य बुखार और फ्लू को भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. अगर आपके शरीर में ऐसा कोई भी लक्षण दिखे तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.