कई बार हम देखते हैं कि कुछ लोग किसी भी प्रकार
से एल्कोहल (Alcohol) का सेवन नहीं करते हैं. ऐसे में वो लोग नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज (Non Alcoholic Fatty Liver Disease) का
शिकार हो जाते हैं. हालांकि कई बार इस समस्या के बारे में लोगों को पता नहीं चल
पाता है. लेकिन अब वैज्ञानिकों ने इसका कारण पता कर लिया है. इस लीवर डिसीज (Liver Disease)  के
बारे में वैज्ञानिकों का मानना है कि ब्लड (Blood) में होमोसिस्टिन नाम के एमिनो एसिड (Amino Acid) का
बढ़ा हुआ लेवल, नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज को और भी ज्यादा गंभीर बना देता है.
ऐसे में विटामिन बी12 (Vitamin B12) और फोलिक एसिड (Folic acid)  की मदद से इस बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: अगर आपको भी बैठे-बैठे सोने की है आदत, तो सेहत को हो सकते हैं ये नुकसान

अधिकतर ये लोग होते हैं इस बीमारी का शिकार

नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज की चपेट में आने
से लिवर में फैट (Fatty Liver)  जमा होने लग जाता है और जिसके कारण लिवर की फंक्शनिंग (Liver Function) में दिक्कत
आना शुरू हो जाती है. कई बार स्थिति इतनी ज्यादा गंभीर हो जाती है कि लिवर को
ट्रांसप्लांट  (Liver Transplant) कराने तक की नौबत आ जाती है. इस समस्या की चपेट में अधिकतर वो लोग
आते हैं, जो लोग डायबिटीज (Diabetes Patient) और बढ़े हुए वजन से पीड़ित होते हैं.

यह भी पढ़ें: जानें उल्टा सोने की आदत के नुकसान, हो सकती हैं ये दिक्कतें!

आखिर कैसे होता है ये रोग

द हेल्थसाइट डॉट कॉम की रिपोर्ट के अनुसार, लैबोरेटरी
ऑफ हार्मोनल रेगुलेशन एट ड्यूक-एनयूएस कार्डियोवास्कुलर एंड मेटाबॉलिक प्रोग्राम
की सीनियर रिसर्च फेलो और अध्ययन की मुख्य लेखक डॉ. मधुलिका त्रिपाठी का कहना है
कि शुरू में लिवर में फैट जमा होने से रोका जा सकता है. लेकिन जैसे जैसे स्थिति
गंभीर होती जाती है, लिवर काम करना बंद कर देता है. ऐसे में आप लिवर सिरोसिस के
साथ साथ कैंसर जैसी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं.

यह भी पढ़ें: High Cholesterol होने पर मिलते हैं ये संकेत, इन बातों का जरूर रखें ख्याल

इन चीजों को लेने से लिवर रहता है सुरक्षित

विशेषज्ञों की मानें, तो अगर आप लिवर में होने
वाली इस समस्या से अपना बचाव करना चाहते हैं. तो ऐसे में आपको विटामिन बी12 और
फोलिक एसिड को अच्छी मात्रा में लेना चाहिए, क्योंकि इनको उचित मात्रा में लेने से
लिवर की सुरक्षा के साथ साथ अन्य समस्याओं से भी निजात मिलती है.

नोटः ये जानकारी एक सामान्य सुझाव है. इसे किसी तरह के प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें. आप इसके लिए संबंधित विशेषज्ञों से सलाह जरूर लें.