Dengue Mosquito: देश की राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में डेंगू का कहर जारी है. आपको बता दें कि डेंगू को हड्डी तोड़ बुखार कहा जाता है. यह एक फ्लू जैसी बीमारी है जो डेंगू वायरस के कारण होती है. ऐसा तब होता है जब वायरस वाला एडीज मच्छर किसी स्वस्थ व्यक्ति को काट लेता है. डेंगू में तेज बुखार, सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द होता है. साथ ही इस समस्या में प्लेटलेट्स भी बहुत तेजी से गिरते हैं. कई बार मरीज का प्लेटलेट काउंट इतना कम हो जाता है कि उसकी जान को खतरा हो जाता है. ऐसे में इससे बचाव के उपायों पर ध्यान देना जरूरी है.

यह भी पढ़ें: Nipah Virus Symptoms in Hindi: इन लक्षणों को नहीं करें नजरअंदाज, निपाह वायरस के हो सकते हैं लक्षण

किस समय सबसे ज्यादा काटता है डेंगू का मच्छर (Dengue Mosquito)

डेंगू की रोकथाम की दिशा में पहला कदम खुद को मच्छरों से बचाना है. इसके लिए यह जानना जरूरी है कि डेंगू का मच्छर किस समय सबसे ज्यादा काटता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, एडीज़ एजिप्टी एक दिन का फीडर है. इसका मतलब है कि ये मच्छर दिन के समय अधिक सक्रिय होते हैं. मच्छर सूर्योदय के लगभग दो घंटे बाद (सुबह और दोपहर) और सूर्यास्त से कई घंटे पहले काटते हैं. जबकि एडीज़ एजिप्टी एक आंतरायिक काटने वाले के रूप में विकसित हुआ है. यह एक समय में एक से अधिक व्यक्तियों को काटना पसंद करता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया भर में हर साल डेंगू के 50 से 100 मिलियन से अधिक मामले सामने आते हैं.

यह भी पढ़ें: Black Jaundice: काला पीलिया क्या होता है? जो राजू सिंगर के लिए बन गया काल, जानें लक्षण और इलाज

कैसे करें डेंगू से बचाव

  • अपने आसपास साफ-सफाई का ध्यान रखें
  • छत पर या घर के अंदर पानी जमा न होने दें.
  • गमलों, टायरों या सड़कों पर पानी जमा न होने दें.
  • कूलर में पानी डालने से बचें या उसमें मच्छरों को घुसने या पनपने से रोकें
  • पानी की टंकियों को ठीक से ढककर रखें.
  • बरसात के दिनों में जब भी घर से बाहर निकलें तो पूरे कपड़े पहनें.
  • मच्छरदानी या मच्छर लाइट का प्रयोग करें.