Benefits of Dhatura in Hindi: भगवान शिव (Lord Shiva) को कांटेदार फल धतूरा चढ़ाया जाता है. आमतौर पर इसे जहरीला और जंगली फल माना जाता है. इसी के चलते इस फल को पूजा के अलावा किसी और काम में इस्तेमाल में नहीं लिया जाता, लेकिन नीचे दिए गए धतूरे के फायदों को जानकर आपको यकीन ही नहीं होगा. चलिए आपको धतूरे से मिलने वाले फायदों (Benefits of Dhatura in Hindi) के बारे में और इसको कैसे इस्तेमाल (Dhatura Home Remedies in Hindi) में लेना चाहिए ये भी बताएंगे.

यह भी पढ़ें: Maha Shivratri Vrat Health Benefits: महाशिवरात्रि का व्रत क्यों करना चाहिए और क्या हैं इसके फायदे

धतूरे से मिलने वाले फायदे और इस्तेमाल में लेने का सही तरीका (Benefits of Dhatura in Hindi)

1. आप धतूरे का प्रयोग गंजेपन को दूर करने के लिए कर सकते हैं. इस समस्या में ये बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है. इसके लिए आपको धतूरे के रस को सिर पर मिलना होगा. इस घरेलू नुस्खे से डैंड्रफ तो खत्म होगा ही साथ-साथ गंजेपन से भी छुटकारा मिल जाएगा.

2. दर्द से राहत पाने के लिए आप धतूरे के रस को तिल के तेल में मिलाकर गर्म कर लें. इसके बाद दर्द वाली जगह पर इस तेल से मालिश करें. इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा.

यह भी पढ़ें: Maha Shivratri Puja and Fast timing: महाशिवरात्रि के दिन किस समय करें पूजा, जानें व्रत रखने का सही मुहूर्त

3. बवासीर के इलाज के तौर पर भी आप धतूरे को इस्तेमाल में ले सकते हैं. इसके लिए धतूरे के फूल और पत्तों को जलाकर इसके धुएं से बवासीर के मस्सों की सिकाई करनी होगी. इससे आपको बहुत फायदा मिलेगा.

4. नियमित रूप से धतूरे के रस और तिल के तेल की मालिश करने से जोड़ों की और गठिया की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है.

5. विशेषज्ञों के अनुसार, बुखार या कफ होने की समस्या में आप 125 से 250 मिलीग्राम धतूरे के बीज को जलाकर राख बना लें और फिर इस राख को मरीज को दें. इससे बुखार या कफ की समस्या छूमंतर हो जाएगी.

(नोटः ये जानकारी एक सामान्य सुझाव है. इसे किसी तरह के मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें. आप इसके लिए अपने डॉक्टरों से सलाह जरूर लें.)