राजकुमार राव की गिनती बॉलीवुड के शानदार अभिनेताओं में की जाती है, जो किसी भी भूमिका पूरी तरह से रम जाते हैं. आपको बता दें कि अब तक कि अपनी फिल्मों में एक से एक शानदार किरदार निभा चुके हैं. उनको आईएएस से लेकर पीठासीन अधिकारी तक की भूमिका में नजर आ चुके हैं. गौरतलब है कि राजकुमार राव के फैंस के लिए एक बड़ी खबर निकलकर सामने आ रही है. दरअसल, भारत निर्वाचन आयोग ने इस बार अभिनेता राजकुमार राव को अपना नेशनल आइकन बनाने का फैसला किया है. चुनाव आयोग गुरुवार (26 अक्टूबर) को अपना आइकन नियुक्त करेगा.

यह भी पढ़ेंः LEO Box Office Collection Day 7: वर्ल्डवाइड में लियो ने कमा डाले 500 करोड़, भारत में गिरी कमाई

आपको बता दें कि इस बार वह अपनी किसी फिल्म या फिर सीरीज को लेकर नहीं, बल्कि 2024 लोकसभा चुनावों से पहले मिली बड़ी जिम्मेदारी को लेकर सुर्खियों में आ गए हैं. जी हां, राजकुमार राव को लेकर चुनाव आयोग ने ऐलान किया है कि उन्हें ‘नेशनल आइकन’ के तौर पर चुना गया है. आयोग ने कहा कि इस मामले में एक औपचारिक समारोह का आयोजन किया जाएगा, जिसमें खुलासा किया जाएगा कि एक्टर कौन सी जिम्मेदारी संभालते नजर आएंगे. ये समारोह कल यानी 26 अक्टबर को आयोजित किया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः Dunki Release Date आ गई सामने, अब Salaar से पहले रिलीज होगी शाहरुख खान की फिल्म

राजकुमार राव ने न्यूटन फिल्म में छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में चुनाव कराने वाले अधिकारी की शानदार भूमिका निभाई थी. इस फिल्म में राजकुमार राव की काफी प्रशंसा की गई थी. साल 2017 में राजकुमार राव को इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर का नेशनल अवॉर्ड भी मिल चुका है. राजकुमार राव इस फिल्म में नूतन कुमार नाम के एक सरकारी क्लर्क की भूमिका में नजर आए थे. फिल्म ने हिंदी में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार जीता और 90वें अकादमी पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म श्रेणी के लिए भारत की ओर से नॉमिनेट भी किया गया था.

यह भी पढ़ेंः कौन हैं नूपुर सेनन? जिन्होंने की Tiger Nageswara Rao में रवि तेजा के साथ किया डेब्यू

बात हो रही है नेशनल आइकन की, तो चलिए जान लेते हैं कि आखिर यह क्या होता है और कैसे काम करता है. आपको बता दें कि जब कभी भी चुनाव आयोग किसी को भी अपना नेशनल आइकन बनाता है, तो उस सेलिब्रिटी को चुनाव आयोग के साथ एक समझौता ज्ञापन पर साइन करना होता है, जो कि अगले तीन साल के लिए वैलिड होता है. इसके बाद वह सेलिब्रिटी अपने सोशल मीडिया हैंडल या फिर विज्ञापन के जरिए लोगों को मतदान के लिए जागरूक करता है. इसके पहले भी कई खिलाड़ियों और अभिनेताओं को नेशनल आइकन बनाया जा चुका है.