Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana: केंद्र सरकार की तरफ से हर वर्ग को लाभ
पहुंचाने के लिए बहुत सी योजनाएं चलाई जा रही हैं. उन्हीं में से एक योजना है ‘प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (Pradhan Mantri Matritva Vandana
Yojana-PMMVY) . इस योजना के अंतर्गत नवजात शिशु की मां को
5000 रुपये की आर्थिक सहायता राशि मुहैय्या कराई जाती है. आपको बता दें कि इस
योजना की शुरूआत केंद्र सरकार की तरफ से 1 जनवरी 2017 को की गई थी. दरअसल, इस योजना के अंतर्गत पहली बार गर्भधारण करने वाली और स्तनपान कराने
वाली महिलाओं को आर्थिक सहायता देने का मुख्य उद्देश्य जच्‍चा-बच्‍चा की सेहत का
ध्‍यान रखना और उन्‍हें पौष्‍ट‍िक आहार प्राप्‍त कराना है. ताकि मां और बच्चा
दोनों स्वस्थ रहें.

यह भी पढ़ें: शादीशुदा लोगों को मिल सकते हैं 72 हजार रुपये, जानें क्या है सरकारी स्कीम?

इस योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

‘प्रधानमंत्री
मातृत्व वंदना योजना’ योजना
को ‘प्रधानमंत्री
गर्भावस्था सहायता योजना’ के नाम
से भी जाना जाता है. इस योजना का लाभ प्राप्‍त करने के ल‍िए पहली बार गर्भवती होने
वाली मह‍िला का रजिस्ट्रेशन कराना होता है. जिसके लिए गर्भवती महिला और उसके पति
का आधार कार्ड, बैंक
पासबुक की आवश्यकता पड़ती है. ध्यान रहे कि बैंक खाता ज्‍वाइंट नहीं होना चाह‍िए. इस
योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली 5000 रुपये की राशि, लाभार्थी को
तीन किस्तों में उपलब्ध कराई जाती है.

यह भी पढ़ें: सुकन्या समृद्धि योजना और PPF के निवेशकों के लिए बुरी खबर, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

किश्तों में दी जाती है योजना की राशि

इस योजना का मुख्य उद्देश्य पहली बार मां बनने
वाली महिलाओं को पोषण प्रदान करना है. इसके लिए इनको दी जाने वाली राशि तीन किश्तों
में दी जाती हैं. जिसमें कि 5000 रुपये में से पहली किस्त 1000 रुपये की, दूसरी किस्त 2000 रुपये और तीसरी किस्त
2000 रुपये दी जाती है. वहीं आपको बता दें कि सरकारी नौकरी करने वाली मह‍िलाएं इस
योजना का लाभ नहीं ले सकतीं हैं. इस योजना के तहत दी जाने वाली रकम सीधे मह‍िला के
खाते में ट्रांसफर कर दिया जाता है.

यह भी पढ़ें: इस योजना में प्रतिमाह डाले 210 रुपये, 60 साल के बाद सालाना 60 हजार की कमाई

कैसे करें आवेदन ?

इस योजना का लाभ उठाने के लिए आप आशा या एएनएम
के जर‍िये आवेदन कर सकते हैं. इसके अलावा आप ऑनलाइन आवेदन कर के भी इस योजना का
लाभ उठा सकते हैं. इस योजना का फायदा पहली बार मां बनने वाली सभी महिलाओं को दिया
जाता है. चाहे वह बच्चा किसी भी सरकारी अस्पताल में या फिर प्राइवेट अस्पताल में
जन्म लेता है.