5G स्पेक्ट्रम की अब तक नीलामी नहीं हुई है. लेकिन बाजार में पहले से ही 5जी की धूम मची हुई है. मोबाइल कंपनियां धड़ल्ले से 5जी स्मार्टफोन की बिक्री कर रहे हैं. वहीं, अब सरकार की ओर से 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी को लेकर अपडेट दिया गया है. दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि सरकार जून की शुरुआत में 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी कर सकती है. हालांकि, ये स्पेक्ट्रम नीलामी की घोषणा नहीं है. बल्कि एक अनुमान लगाया गया है.

यह भी पढ़ेंः कहीं आपकी सिम का इस्तेमाल कोई और तो नहीं कर रहा? ऐसे चेक करें

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दूरसंचार विभाग अपेक्षित समय सीमा के अनुसार काम कर रहा है और स्पेक्ट्रम मूल्य निर्धारण के संबंध में उद्योग की चिंताओं को हल करने की प्रक्रिया जारी है.

स्पेक्ट्रम नीलामी के कार्यक्रम के बारे में पूछने पर वैष्णव ने कहा कि इसके जून की शुरुआत में होने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ेंः एयरटेल का ये है सबसे सस्ता प्लान, ग्राहक को मिलेगा इतने GB डेटा

दूरसंचार नियामक ट्राई ने 5जी सेवाओं को लागू करने के लिए एक बड़ी नीलामी योजना तैयार की है.

वैष्णव ने कहा, “हम नीलामी करने के लिए अपनी समयसीमा के अनुसार आगे बढ़ रहे हैं.”

मंत्री ने कहा कि डिजिटल संचार आयोग ट्राई की सिफारिशों पर विचार करेगा और स्पष्टीकरण के लिए उनसे संपर्क करेगा.

यह भी पढ़ेंः एयरटेल-जिओ पेश कर रहे 300 से कम वाले कई प्रीपेड प्लांस, जानें बेस्ट ऑप्शन

ट्राई ने बीते दिनों 5जी सेवाओं को लेकर 30 साल से अधिक समय के लिये विभिन्न बैंड में 7.5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य के स्पेक्ट्रम नीलामी की सिफारिश की थी. नियामक ने मोबाइल सेवाओं के लिये स्पेक्ट्रम बिक्री के लिये जिस कीमत की सिफारिश की है कि वह आरक्षित या आधार मूल्य से 39 प्रतिशत कम है.

यह भी पढ़ेंः JIO का बड़ा धमाका, 200 रुपये देकर ले सकते हैं 14 OTT प्लेटफॉर्म्स का मजा!

दूरसंचार सेवा प्रदाताओं के संगठन भारतीय सेल्युलर ऑपरेटर संघ (सीओएआई) ने स्पेक्ट्रम कीमतों में कटौती के बारे में ट्राई की सिफारिशों पर गहरी निराशा जताते हुए कहा कि सुझाई गई कीमतें भी बहुत ज्यादा हैं.