दिवाली का पर्व (Diwali Festival) नजदीक है, 24 अक्टूबर 2022 की देशभर में दिवाली मनाई जाएगी. दिवाली पर मां लक्ष्मी का स्वागत करने के लिए लोगों ने अपने घरों में साफ-सफाई कर ली है. अब सबने घरों में सजावट का काम शुरू कर दिया है, दिवाली पर लोग मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए और उनका स्वागत करने के लिए रंगोली बनाते हैं. वास्तु (Vastu) के अनुसार रंगोली (Rangoli) बनाने के कुछ विशेष उपाय बताए गए हैं. तो आइए जानते हैं कि वास्तु में किस दिशा में कैसी रंगोली बनाने के बारे में बताया गया है. और उनसे कौन से लाभों की प्राप्ति होती है.

यह भी पढ़ें: Rama Ekadashi Vrat 2022: रमा एकादशी व्रत में क्या खाएं और क्या नहीं? जानें

पूर्व दिशा: वास्तु के अनुसार घर के पूर्व दिशा की ओर अंडाकार रंगोली बनानी चाहिए. इससे घर में खुशहाली और कारोबार में तरक्की मिलती है.

कौन से रंगों का करें इस्तेमाल: जब आप पूर्व दिशा में रंगोली बना रहे हों तो आशावादी रंगों का चयन करें, जैसे नारंगी, नीला, भूरा, हरा, गुलाबी, और मरून. ध्यान रहे कि पूर्व दिशा में रंगोली बनाने के लिए गोल्डन रंग का इस्तेमाल न करें, इससे सामाजिक गतिविधियों में रुकावट आती है.

लाभ: पूर्व दिशा में आशावादी रंगों से रंगोली बनाने से घर या ऑफिस में पॉजिटिविटी आती है. मान-सम्मान में बढ़ोतरी होती है और घर में प्यार बढ़ता है.

यह भी पढ़ें: Dhanteras 2022: धनतेरस पर इन स्थानों पर जलाएं दीपक, धन की होगी वर्षा

पश्चिम दिशा: पश्चिम दिशा में गोलाकार रंगोली बनानी चाहिए. जब आप रंगोली बना रहे हो तो गोलाकार और आयताकार को मिलाकर रंगोली न बनाएं. हां आप पंचा कार रंगोली बना सकते हैं.

कौन से रंगों का करें इस्तेमाल: पश्चिम दिशा में रंगोली बनाने के लिए आप सफेद और सुनहरे रंग का खास तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा आप अपनी रंगोली में पीला, लाल और हरा रंग भी भर सकते हैं. ध्यान रहे कि पश्चिम दिशा में रंगोली बनाने के लिए काले रंग का इस्तेमाल न करें.

लाभ: पश्चिम दिशा में रंगोली बनाने से कर्म शक्ति में वृद्धि होती है, जिससे कामकाज में तरक्की होती है.

यह भी पढ़ें: Govatsa Dwadashi 2022 date: कब है गोवत्स द्वादशी? जानें शुभ मुहूर्त और महत्व

उत्तर दिशा: उत्तर दिशा में लहरदार या लहरिया रंगोली बनानी चाहिए. इस दिशा में तिकोनी रंगोली न बनाएं.

कौन से रंगों का करें इस्तेमाल: उत्तर दिशा में रंगोली बनाने के लिए पीला, हरा और नीला रंग इस्तेमाल कर सकते हैं. ध्यान रहे कि लाल, नारंगी और वायलेट रंगों का इस्तेमाल न करें.

लाभ: बता दें कि उत्तर दिशा में धन के देवता कुबेर का वास होता है. इसलिए इस दिशा में रंगोली बनाने से आपको धन की प्राप्ति होगी और जीवन में उन्नति होगी.

दक्षिण दिशा: दक्षिण दिशा में आप आयताकार रंगोली बना सकते हैं. इस दिशा में लहरिया आकार की रंगोली बनाने से परहेज करना चाहिए.

कौन से रंगों का करें इस्तेमाल: इस दिशा में आप किसी भी रंग का इस्तेमाल करके रंगोली बना सकते हैं. लेकिन ध्यान रहे कि भूलकर भी नीले रंग का प्रयोग न करें.

यह भी पढ़ें: कौन है भगवान धन्वंतरि? जिनकी होती है धनतेरस पर पूजा

लाभ: इस दिशा में रंगोली बनाने से मान-सम्मान और आत्मविश्वास में वृद्धि होती है. और जीवन में तरक्की होती है तथा धन के क्षेत्र में लाभ मिलता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)