हिंदू धर्म में शारदीय नवरात्रि का विशेष महत्व माना गया है. आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri 2023) की शुरुआत मानी गई है और इस बार यह शुभ तिथि 15 अक्टूबर दिन रविवार को पड़ रही है. आपको बता दें कि शारदीय नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के बाद से ही मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की नौ दिन तक पूजा अर्चना शुरु हो जाती है और बहुत सारे लोग व्रत शुरु कर देते हैं. कुछ लोग नवरात्रि की प्रतिपदा और अष्टमी तिथि का व्रत रखते हैं, तो कुछ पूरे नौ दिन तक व्रत धारण करते हैं. तो चलिए जान लेते हैं नवरात्रि उपवास के लाभ के साथ इन दिनों में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.

यह भी पढ़ें: Amavasya October 2023 Date: अक्टूबर में अमावस्या कब है? यहां जानें दिन, तारीख और महत्व

नवरात्रि उपवास के लाभ

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, नवरात्रि (Shardiya Navratri 2023) के दौरान व्रत धारण करना हमारी आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाने के साथ ही शरीर को डिटॉक्सीफाई करने का एक शानदार माध्यम है. पौराणिक आस्था के साथ साथ साइटिफिकली भी इसके कई फायदे देखने को मिलते हैं. आपको बता दें कि इस दौरान मौसम में भी परिवर्तन हो रहा होता है, तो खान पान का विशेष ख्याल न रखने से आपका स्वास्थ्य बिगड़ जाता है. इसलिए भी व्रत रखना काफी लाभकारी माना गया है. इसके अलावा उपवास रखने से पाचन प्रक्रिया सही रहती है, शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में मददगार साबित होता है, हृदय स्वस्थ रखने में मददगार, कई गंभीर बीमारियों से बचाव भी होता है. इससे आपका मन शुद्ध और शांत रहता है और मन चंगा तो सब चंगा.

यह भी पढ़ें: Vijayadashmi 2023: इस साल विजयादशमी पर बन रहे हैं ये दो शुभ योग, मां दुर्गा की रहेगी कृपा

नवरात्रि उपवास में क्या खाना चाहिए?

नवरात्रि (Shardiya Navratri 2023) के दौरान आप चाहे रखें या न रखें खानपान का आपको विशेष ख्याल रखना चाहिए. वरना मौसम में बदलाव होना आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकता है. इस दौरान कोई भी तली भुनी मसालेदार चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए. ऐसे में अगर आप उपवास रखते हैं, तो आपको फल, फलों का जूस, सूखे मेवे और कम कार्बोहाइड्रेट युक्त चीजों का सेवन ज्यादा करना चाहिए, जिनसे स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते हैं. इसके अलावा अगर आप उपवास नहीं भी रखते हैं, तो भी आपको हल्की फुल्का भोजन ही करना चाहिए. ध्यान रहे इस दौरान तला भुना (फास्ट फूड), तामसिक चीजों आदि का सेवन तो भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)