हिंदू धर्म में भादो माह में आने वाले सभी व्रत-त्योहार विशेष महत्त्व रखते हैं. इस पवित्र महीने में आने वाली शनि अमावस्या (Shani Amavasya) का भी खास धार्मिक महत्व है. शनिवार को पड़ने के कारण इसे शनिश्चरी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है. इस बार भाद्रपद की अमावस्या (Bhadrapada Amavasya) तिथि 27 अगस्त, शनिवार को पड़ रही है. मान्यता है कि शनि अमावस्या के दिन स्नान-दान के साथ भगवान शनि की पूजा करने और पितरों का तर्पण करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है.

यह भी पढ़ें Chanakya Niti: बड़ी मुसीबतें आने पर भी इन लोगों से नहीं लेनी चाहिए मदद, पड़ेगा भारी

हिन्दू पंचांग के अनुसार, इस साल शनि अमावस्या पर काफी दुर्लभ संयोग बन रहा है. इस लेख के माध्यम से हम आपको शनि अमावस्या शुभ मुहूर्त, खास संयोग और शनि अमावस्या पर करने वाले खास उपायों के बारें में बताएंगे.

शनि अमावस्या तिथि शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद की अमावस्या तिथि 26 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 24 मिनट से शुरू हो रही है जो 27 अगस्त, शनिवार को दोपहर 1 बजकर 47 मिनट को समाप्त होगी. उदया तिथि की मान्यता के अनुसार, अमावस्या तिथि शनिवार को मान्य होगी.

यह भी पढ़ें: Budh Pradosh Vrat 2022: कब है व्रत? पढ़ें बुधवार प्रदोष व्रत कथा

अभिजीत मुहूर्त: सुबह 11 बजकर 57 मिनट से दोपहर 12 बजकर 48 मिनट तक.

शिव योग: 27 अगस्त की सुबह 2 बजकर 11 मिनट से शुरू होकर 28 अगस्त सुबह 2 बजकर 6 मिनट तक.

शनि अमावस्या पर खास संयोग

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, भादो मास में शनि अमावस्या का होना काफी दुर्लभ माना जाता रहा है. इससे पहले ऐसा संयोग साल 2008 में बना था. ज्योतिषों के अनुसार, 14 साल पहले 30 अगस्त 2008 को भादो मास में शनि अमावस्या का योग बना था.  ऐसे दुर्लभ संयोग में भगवान शनि की पूजा करने का विशेष फल मिलता है.

यह भी पढ़ें: Ganesh Pratima Tips: घर में इस जगह पर स्थापित करें गणेश प्रतिमा, चमक उठेगी आपकी किस्मत!

शनि अमावस्या पर करें यह खास उपाय

अमावस्या के दिन शनि साढ़े साती और ढैय्या के प्रभाव को कम करने के लिए रुद्राक्ष की माला से ऊँ शं शनैश्चराय नमः मंत्र का 108 बार जाप करें. इसके साथ ही शनि अमावस्या के दिन शनिदेव को सरसों का तेल अर्पित करें और सरसों के तेल का दीपक जलाएं. इससे कुंडली में साढ़े साती और ढैय्या का प्रभाव कम होता है.

यह भी पढ़ें: जैन समाज का पर्युषण पर्व 24 अगस्त से शुरू, जानें इसके बारे में सबकुछ

शनि अमावस्या के दिन दान – पुण्य का काफी महत्व बताया गया है. इस दिन शनिदेव संबंधी चीजों का दान करने से विशेष लाभ मिलता है.  शनिश्चरी अमावस्या के दिन आटा, शक्कर, काले तिल को मिलाकर चींटियों को खिलाएं और पीपल के पेड़ को जल चढ़ाएं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)