Rakshabandhan Don’ts In Hindi: रक्षाबंधन का त्योहार देश भर में बड़े ही हर्षो-उल्लास के साथ मनाया जाता है. इस बार रक्षाबंधन का पर्व 30 अगस्त और 31 अगस्त दो दिन मनाया जाएगा. आपको बता दें कि रक्षाबंधन पर्व का हर भाई बहन को बेसब्री से इंतजार रहता है. रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर बहनें अपने भाइयों का तिलक करते हुए कलाई पर पवित्र धागा बांधती हैं और मुंह मीठा कराती हैं. इसके बदले भाई, बहन की रक्षा का वचन, गिफ्ट और शगुन राशि देता है. इसके साथ ही भाई अपनी बहनों को सभी बुराईयों से बचाने का संकल्प लेता है. रक्षाबंधन (Rakshabandhan Don’ts) के शुभ अवसर पर कुछ चीजें न करने की सलाह दी जाती है. मान्यता है कि उन चीजों को करने से भाग्य रूठ जाता है और आपको बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

यह भी पढ़ें: Rakshabandhan 2023: रक्षाबंधन का त्योहार किस दिन मनाना शुभ होगा? जान लें सटीक तारीख के साथ शुभ मुहूर्त

1- दिशा की गलती

रक्षाबंधन के दिन (Rakshabandhan Don’ts) राखी बांधने का विशेष महत्व होता है. इसके साथ ही सही नियमों के साथ राखी बांधना बहुत जरूरी माना गया है. वरना आपको इसका संपूर्ण लाभ प्राप्त नहीं होता है और उसके साथ ही आपको उसके दुष्परिणामों का सामना भी करना पड़ सकता है.

2- मांस का सेवन

रक्षाबंधन के दिन (Rakshabandhan Don’ts) घरों मांस नहीं बनाना चाहिए. ऐसा करना अशुभ माना जाता है व आपको पूजा पाठ के साथ साथ राखी का भी शुभ फल प्राप्त नहीं होता है. इसलिए इस दिन इन चीजों से दूर रहें.

यह भी पढ़ें: Rakshabandhan 2023: रक्षाबंधन पर अमृत योग में बांधें राखी, जानें शुभ मुहूर्त और तारीख

3- मदिरा का सेवन

इस दिन घर के किसी भी सदस्य को मदिरा का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए. वरना अशुद्धता के चलते आपको पूजा पाठ का संपूर्ण फल प्राप्त नहीं होता है और कई बार नकारात्मकता का सामना करना पड़ सकता है.

4- विवाद

इस दिन घर में आपस में किसी प्रकार का कलह या विवाद नहीं करना चाहिए. अगर कुछ गलती हो भी जाए, तो आपस में प्यार से बात कर के माहौल शांत कर लें और सकारात्मक माहौल के साथ ही त्योहार मनाएं.

यह भी पढ़ें: Holiday On Raksha Bandhan 2023: रक्षाबंधन के दिन बैंक और स्कूलों में छुट्टी होगी? तुरंत दूर करें कंफ्यूजन

5- किसी भी भिक्षुक का अपमान न करें

रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर कोई भी भिक्षुक आपके द्वार पर आता है, तो आपको उसकी सामर्थ्य अनुसार मदद करनी चाहिए और अगर मदद न हो सके. तो हाथ जोड़कर माफी मांग लें. लेकिन भूलकर भी उसका अपमान नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से भगवान नाराज हो जाते हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)