Raksha Bandhan 2023: सनातन धर्म में चाहे पूजा-पाठ हो, शादी-विवाह हो या अंतिम संस्कार, कर्म की दिशा का चयन महत्वपूर्ण बताया गया है. दिशा से ही दशा निर्धारित होती है. ऐसे में कई बार देखा गया है कि लोग शुभ कार्यों के दौरान जानवरों से दिशा का ज्ञान लेते हैं. इस बार रक्षाबंधन पर भी कुछ ऐसा ही हो रहा है. इस बार रक्षाबंधन पर पूरे दिन भद्रा का साया रहेगा.

ऐसे में राखी बांधने का शुभ समय 30 अगस्त को रात 9 बजे के बाद का है. अगर बहनें रात में शुभ मुहूर्त के अनुसार राखी बांध रही हैं तो उन्हें दिशा का भी ध्यान रखना चाहिए. राखी बांधने में न केवल शुभ समय महत्वपूर्ण है, बल्कि दिशा भी महत्वपूर्ण है और अगर रात में राखी बांधी जाए तो दिशा का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है.

यह भी पढ़ें: Raksha Bandhan 2023 Upay: रक्षाबंधन के दिन जरूर करें ये 3 उपाय, भाई के जीवन में आएगी सुख-समृद्धि

भाई के स्वास्थ्य पर पड़ता है असर (Raksha Bandhan 2023)

अगर सही विधि, मुहूर्त और दिशा में बैठकर राखी न बांधी जाए तो यह महज औपचारिकता बनकर रह जाती है, इसलिए रक्षाबंधन पर राखी बांधते समय बहनों को यह जानना बहुत जरूरी है कि राखी किस कलाई में बांधनी चाहिए. राखी बांधते समय किस दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए और शुभ समय क्या है. बताया कि ऐसा करने से भाई के सौभाग्य और स्वास्थ्य दोनों पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है.

यह भी पढ़ें: Plants for Money Upay: धन के देवता कुबेर को बेहद पसंद हैं ये 5 पौधे, लगाते ही होगी पैसों की वर्षा!

अगर आप रात को राखी बांधते हैं तो इस दिशा में मुख करें

वास्तु शास्त्र के अनुसार राखी बांधते समय बहनों को अपना मुंह पश्चिम दिशा की ओर और भाइयों का मुंह पूर्व या उत्तर दिशा की ओर रखना चाहिए. रक्षाबंधन का त्योहार मनाने के लिए भाई को उत्तर और पूर्व दिशा में बैठना चाहिए, जबकि बहन का मुंह पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए. यदि राखी शाम या रात के समय बांधी जाए तो भाई का मुख पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए. लेकिन सूर्योदय से शाम तक राखी पूर्व और उत्तर दिशा की ओर मुख करके बांधनी चाहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)