Panchak June 2023: हिंदू धर्म में पंचक का बहुत महत्व बताया गया है. मान्यता है कि पंचक काल में कोई भी शुभ या मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है. पंचक यानी वे पांच दिन जिनमें शुभ कार्य करना वर्जित होता है. पंचक हर महीने आता है. आइए जानते हैं जून के महीने में कब से शुरू हो रहा है पंचक.

इस वर्ष जून माह में पड़ने वाले पंचक को चोर पंचक का नाम दिया गया है. इस वर्ष आषाढ़ मास में पड़ने वाला पंचक शुक्रवार से शुरू हो रहा है, जिसके कारण इसे चोर पंचक कहा जाता है. हमारे शास्त्रों में पांच प्रकार के पंचक बताए गए हैं. अग्नि पंचक, चोर पंचक, राज पंचक, रोग पंचक और मृत्यु पंचक.

यह भी पढ़ें: Ashadha Amavasya 2023: कब है आषाढ़ अमावस्या? इस दिन पितृ दोष को करें दूर, आशीर्वाद से होगी परिवार की तरक्की

जून 2023 पंचक तिथि (Panchak June 2023)

आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को यानी 9 जून को सुबह 06:02 बजे पंचक लगेगा.

आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि यानी दशमी तिथि का समापन 13 जून को दोपहर 1 बजकर 32 मिनट पर होगा.

यह भी पढ़ें: Budh Grah Ka Gochar: इस महीने बनने जा रहा है भद्र राजयोग, 3 राशि के जातकों की चमकने वाली है किस्मत

पंचक काल क्या है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पांच नक्षत्रों (धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्व भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती) के संयोग को पंचक कहा जाता है. इन पांच दिनों में चंद्रमा इन नक्षत्रों के चारों चरणों में भ्रमण करता है, जहां से पंचक काल शुरू होता है. हर 27 दिन बाद पंचक आता है.

यह भी पढ़ें: Shani Pradosh 2023: साल 2023 में केवल 1 बार पड़ रहा है यह व्रत, जानें पूजा तिथि और शुभ मुहूर्त

पंचक काल में शुभ कार्य न करें

विवाह, मुंडन या नामकरण नहीं करना चाहिए.
इन दिनों दक्षिण दिशा की ओर यात्रा नहीं करना चाहिए.
यदि पंचक में घर बन रहा हो तो उस पर छत नहीं डालनी चाहिए.
पंचक काल में कोई भी शुभ या मांगलिक कार्य करने से बचना चाहिए.
माना जाता है कि पंचक के दौरान यह काम करने से आपको नुकसान का सामना करना पड़ सकता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)