Navratri Vrat Eating Rules In Hindi: सनातन धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व माना गया है. मां दुर्गा को समर्पित इन 9 दिनों में विधि विधान से माता रानी की पूजा अर्चना की जाती है. इन दिनों को बहुत ही पवित्र माना गया है. इस बार नवरात्रि का प्रारंभ 15 अक्टूबर से हो चुका है. आपको बता दें कि नवरात्रि (Navratri Vrat Eating Rules) के 9 दिनों तक खानपान का विशेष ख्याल रखने की आवश्यकता होती है. ऐसे में बहुत सारे लोगों के अंदर नींबू के सेवन को लेकर बहुत कंफ्यूजन होता है कि खा सकते हैं कि नहीं. तो चलिए आपको बता देते हैं.

यह भी पढ़ें: Navratri Day 2: मां ब्रह्मचारिणी को समर्पित है नवरात्रि का दूसरा दिन, जान लें पूजाविधि, मंत्र, आरती और भोग

व्रत में नींबू खाना चाहिए की नहीं?

नवरात्रि के दिनों को बहुत ही पवित्र माना गया है. इसलिए इस दौरान बहुत सारी चीजों के खान पान को वर्जित माना गया है. रिपोर्ट्स के अनुसार, नींबू का सेवन किया जा सकता है. आपको बता दें कि नींबू एनर्जी का अच्छा सोर्स होता है. व्रत के दौरान नींबू का सेवन किया जा सकता है, वह हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित होता है. व्रत के दौरान हम कई बार बहुत लो फील करने लगते हैं. ऐसे में हमें लिक्विड डायट पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए और इसमें आप नींबू पानी को शामिल कर सकते हैं. व्रत में नींबू पानी का सेवन एनर्जी देने के साथ साथ एसिडीटी से आपका बचाव करता है. ध्यान रहे कि कभी भी भूलकर भी संतोषी माता के व्रत में नींबू का सेवन तो दूर छूना भी नहीं चाहिए. इसके साथ ही कोई भी खट्टी चीज संतोषी माता के व्रत में शामिल भूलकर भी न करें.

यह भी पढ़ें: Amavasya October 2023 Date: अक्टूबर में अमावस्या कब है? यहां जानें दिन, तारीख और महत्व

नवरात्रि में क्या नहीं खाना चाहिए?

नवरात्रि के दौरान बहुत सारी चीजों के खानपान की मनाही होती है. नवरात्रि के दिनों में हमें तामसिक चीजों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए. इसके अलावा नवरात्रि में 9 दिनों में लहसुन और प्याज नहीं खाना चाहिए. इन दोनों को तमोगुण वर्धक माना जाता है. लहसुन और प्याज उत्तेजना और काम भाव बढ़ाता है. इसके अलावा शास्त्रों में इसे राक्षसी भोजन कहा गया है. कहा जाता है कि इनकी उत्पत्ति राहु और केतु से हुई है इसलिए इनमें गंध आती है और पवित्र दिनों के साथ साथ पवित्र कामों में इनका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)