Magh Purnima 2023 Vrat Vidhi in Hindi: माघ महीने की पूर्णिमा 5 फरवरी 2023 को है. माघ माह की पूर्णिमा वर्ष की दूसरी पूर्णिमा होती है. यह पूरे माघ महीने के स्नान, दान, पुण्य, जप और तप का अंतिम दिन होता है. प्रत्येक साल फरवरी माह में ही माघ माह की पूर्णिमा पड़ती है. हिंदू धर्म में माघ पूर्णिमा का विशेष (Magh Purnima 2023) महत्व है. इस दिन स्नान और दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है. माघ पूर्णिमा के दिन चंद्र देव के साथ-साथ मां लक्ष्मी की आराधना करना शुभ माना जाता है. इससे घर में सुख-समृद्धि, सुख-शांति की प्राप्ति होती है. तो चलिए हम आपको बताएंगे माघ पूर्णिमा शुभ मुहूर्त और व्रत विधि के बारे में.

यह भी पढ़ें: Lalita Jayanti 2023 Date: कब है ललिता जयंती? जानें मंत्र समेत अन्य जरूरी बातें

माघ पूर्णिमा 2023 पूजा मुहूर्त (Magh Purnima 2023 Muhurat and Date

पंचांग के मुताबिक, माघ महीने की पूर्णिमा तिथि का शुरुआत 4 फरवरी 2023 को रात 09.21 मिनट से हो रही है. इसके अगले दिन यानि 5 फरवरी 2023 की रात को 11.58 को तिथि का समापन होगा. उदया तिथि के अनुसार माघ पूर्णिमा का 5 फरवरी 2023 को मनाया जाएगा.

Magh Purnima 2023 के दिन निम्न चीजों का दान करें

केले
सफेद तिल
कंबल
कैलेंडर या पंचांग
वस्त्र
घी
पुस्तक
अन्न दान
तिल के व्यंजन
मौसमी फल

यह भी पढ़ें: Sant Ravidas Jayanti 2023: कौन थे संत रविदास? जानें उनकी शिक्षा और दोहे अर्थ सहित

माघ पूर्णिमा व्रत विधि

-माघ पूर्णिमा के दिन दान में तिल और काले तिल दान में देना चाहिए.
-पूजा या व्रत के बाद बाद मध्याह्न काल में किसी गरीब इंसान को भोजन कराकर दान-दक्षिणा दें.
-माघ पूर्णिमा के दिन सुबह जल्दी उठकर पवित्र नदी में स्नान करें. अगर ऐसा संभव नहीं है तो पानी में थोड़ा गंगाजल मिलाकर स्नान करें.
-स्नान करने के बाद सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करें.

यह भी पढ़ें: Ravidas Jayanti 2023: संत रविदास जी का जीवन परिचय

-इसके बाद भगवान विष्णु जी की पूजा-अर्चना करें.
-उनकी पूजा पांच प्रकार की सामग्री से करें. नैवेद्य, धूप, दीप, पुष्प और गंध अर्पित करें और फिर आरती करें.
-माघ माह में काले तिल से हवन और काले तिल से पितरों का तर्पण भी करना चाहिए.
इसके बाद व्रत का पारण करें.

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.