भारत में करवाचौथ (Karwa Chauth 2022) का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. यह त्योहार महिलाओं के लिए बहुत खास होता है. इस दिन शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत (Karwa Chauth Vrat 2022) धारण करती हैं और पूरा दिन व्रत रखने के बाद रात में चांद देखकर विधि विधान से पूजा करने के बाद कुछ खाती पीती हैं. भगवान शिव और पार्वती को समर्पित करवा चौथ (Karwa Chauth 2022 Date) का पर्व 13 अक्टूबर 2022 को मनाया जाएगा. इस दिन भगवान शिव और पार्वती की विशेष उपासना करने का प्रावधान है. इसके साथ ही महिलाएं इस अवसर पर शिव-पार्वती की पूजा करने के साथ साथ खुशहाल दांपत्य जीवन की कामना करती हैं.

यह भी पढ़ें: Karwa Chauth 2022: करवाचौथ व्रत से पहले इन चीजों का करें सेवन, नहीं लगेगी प्यास और भूख

करवा चौथ पूजन सामग्री

करवा चौथ की पूजन सामग्री में मिट्टी का टोंटीदार करवा व ढक्कन,  गंगाजल, दीपक, रूई, अगरबत्ती, चंदन, कुमकुम, रोली, अक्षत, फूल, कच्चा दूध, दही, देशी घी, शहद, चीनी, हल्दी, चावल, मिठाई, चीनी का बूरा, मेहंदी, महावर, सिंदूर, कंघा, बिंदी, चुनरी, चूड़ी, बिछुआ, पानी का लोटा, लकड़ी का आसन, छलनी, खीर पूड़ी, फल आदि… शामिल होती है.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ के दिन इन 5 कामों से वैवाहिक जीवन में बनी रहेगी मिठास

करवा चौथ पर पूजा सामग्री के इस्तेमाल से मिलने वाले लाभ

* करवा चौथ पूजन में सरसों के तेल का दीपक जलाने से घर से ग्रह कलेश खत्म होता है और सदस्यों  में  प्रेम बढ़ता है.

* करवा चौथ के अवसर पर मिट्टी का करवा शुभ माना जाता है.

* करवा चौथ पूजन में कांस की तीलियों का इस्तेमाल करना बहुत ही शुभ माना जाता है.

* करवा चौथ पूजन सामग्री में कुमकुम का रहना बहुत ही ज्यादा आवश्यक माना गया है. मान्यतानुसार, पूजन के बाद इसी कुमकुम से मांग भरने से पति को दीर्घायु की प्राप्ति होती है.

* छलनी का करवा चौथ के पूजन में विशेष मान होता है. मान्यता है कि छलनी से दीदार करने से कई लाभ होते हैं और कई नकारात्मक चीजों से रक्षा होती है.

* फूल माला को सम्मान का प्रतीक माना जाता है और इनके बिना कोई भी अधूरी मानी जाती है. ऐसे में फूल माला को अवश्य शामिल करें.

* करवा चौथ के अवसर पर मिठाई को शामिल करना अनिवार्य है और खासकर सफेद दूध की मिठाई को अधिक शुभ माना गया है.

* करवा चौथ के पूजन में चावल का विशेष महत्व होता है. करवा में पीस के लगाने के साथ-साथ इन चावलों का छिड़काव करना बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है.

 (यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)