Jitiya Vrat Fasting Rules: सनातन धर्म में महिलाओं को कई ऐसे व्रत रखने होते हैं जो उनके घर-परिवार में सुख-समृद्धि लेकर आते हैं. जैसे सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए तीज, करवाचौथ जैसे कठिन व्रत रखती हैं. वैसे ही मांएं भी अपनी संतान के अच्छे स्वास्थ्य, अच्छे भविष्य और लंबी उम्र के लिए कई कठिन व्रत रखती हैं जिसमें छठ व्रत और जितिया व्रत जैसे व्रतों के नाम हैं. जितिया व्रत 24 घंटे का होता है और इसमें निर्जला व्रत रखकर पूजा और दान करने के बाद ही व्रत का पारण करना होता है. जितिया व्रत में नोनी के साग का भी बहुत महत्व बताया गया है लेकिन इससे जुड़ी क्या मान्यता है चलिए आपको बताते हैं.

यह भी पढ़ें: Pitru Paksha Daan Tips: पितृ पक्ष में क्या दान करना चाहिए? जान लें मिलेंगे लाभ ही लाभ

जितिया में क्यों खाते हैं नोनी का साग? (Jitiya Vrat Fasting Rules)

नोनी का साग आमतौर पर गांव क्षेत्र में पाया जाता है जिसका सबसे ज्यादा उपयोग जितिया पर्व में सबसे ज्यादा किया जाता है. जितिया व्रत में नोनी के साग का महत्व बताया गया है. ऐसा इसलिए क्योंकि ये साग बहुत ही पवित्र होता है और इसका सेवन इस व्रत में आवश्यक रूप से होता है. ऐसी मान्यता है कि जितिया का व्रत महिलाओं को निर्जला रखना होता है. 24 से 36 घंटे तक व्रत रखने के कारण शरीर में काफी परेशानियां भी हो सकती हैं. इसलिए व्रत रखने के एक दिन पहले नोनी के साग को जरूर खाना चाहिए जिससे लगभग 30 घंटे तक उनके शरीर में पौष्टिक आहार बना रहता है और इससे उन्हें कमजोरी भी नहीं आती है. नोनी के साग के साथ मरुआ की रोटी और मारा माछ भी बहुत से लोग खाते हैं. इसका सेवन नहाय खाय के दिन दिया जाता है और इस साल ये दिन 5 अक्टूबर 2023 को पड़ा है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, नोनी का साग बहुत ही फायदेमंद होता है जिसका सेवन आमतौर पर भी करना चाहिए. जितिया के व्रत में नहाय खाय के बाद व्रत रखना होता है जो इसके अगले दिन होता है. हिंदू पंचांग के अनुसार, अश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी और नवमी में जितिया व्रत रखा जाता है. इस बार ये व्रत 6 अक्टूबर दिन शुक्रवार को पड़ रहा है. अष्टमी तिथि 6 अक्टूबर की सुबह 6.34 बजे से प्रारंभ हो रही है जो 07 अक्टूबर की सुबह 8.08 बजे पर समाप्त होगी. इस दौरान व्रती को गंगा घाट के किनारे पूजा करनी चाहिए और निर्जला व्रत रखना चाहिए. 24 घंटे पूरे होने के बाद दान करें और फिर व्रत का पारण करें.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

यह भी पढ़ें: Pitru Paksha 2023 Ends Date: कब समाप्त हो रहे पितृ पक्ष? जानें दिन, तारीख और समय