Holashtak 2023:  होली के पर्व से आठ दिन पहले होलाष्टक शुरू होते हैं. फाल्गुन माह की अष्टमी से यह पूर्णिमा तक रहता है. होलाष्टक के दौरान शुभ काम करना अशुभ माना जाता है. इसलिए होलाष्टक में शुभ काम नहीं किए जाते हैं. इस साल 7 मार्च को होलिका दहन और 8 मार्च को रंगों वाली होली (Holi 2023) मनाई जाएगी. पंचांग के मुताबिक, होलाष्टक की शुरुआत इस वर्ष 28 फरवरी से हो रही है. होली से पहले के 8 दिन होलाष्टक कहलाते हैं.

यह भी पढ़ें: होलिका कौन थी? उसे क्यों जलाया जाता है, जानें पर्व से जुड़ी पौराणिक कथा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि होलाष्टक में सगाई और शादी-विवाह जैसे मांगलिक कार्यों के अलावा नामकरण और मुंडन जैसे संस्कार नहीं करने चाहिए. आइए जानते हैं आखिर होलाष्टक के दौरान शुभ कार्य क्यों नहीं किए जाते हैं.

यह भी पढ़ें: Holika Dahan Story in Hindi: होलिका दहन क्यों मनाया जाता है? इसके पीछे की कहानी जानें

होलाष्टक में इस वजह नहीं नहीं किए जाते शुभ कार्य

होलाष्टक को लेकर प्रहलाद की एक पौराणिक कथा प्रचलित है. कथा के अनुसार, हिरण्यकश्चप अपने ही पुत्र नारायण भक्त प्रहलाद से नाराज था. उन्होंने प्रहलाद को मारने के लिए पूर्णिमा की तिथि को ही चुना. पूर्णिमा के 8 दिन पहले ही हिरण्यकश्चप को प्रहलाद को मारने के लिए उसे कई प्रकार की यातनाएं देनी शुरू कर दी, जिससे वे डरकर पिता का भक्त बन जाए और भगवान विष्णु की पूजा करना छोड़ दें. लेकिन प्रहलाद अपनी भक्ति करने से पीछे नहीं हटा.

यह भी पढ़ें: Masik Durga Ashtami Vrat Katha in Hindi: मासिक दुर्गाष्टमी व्रत में पढ़ें ये कथा, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

आठवें दिन प्रहलाद की बहन होलिका ने अपनी गोद में प्रहलाद को लेकर आग में बैठ गई. इस दौरान प्रह्लाद भगवान विष्णु की पूजा करते रहे. इस बार भी प्रहलाद को आग की लपटें छू भी नहीं पाई. लेकिन इसके विपरीत होलिका आग की भेंट चढ़ गई. हिंदू मान्यता के अनुसार, पूर्णिमा से पहले के वो आठ दिन जब भक्त प्रहलाद ने यातनाएं सही उसे होलाष्टक कहते हैं. यही वजह है कि होलाष्टक के दौरान दिनों में शुभ कार्य करने की मनाही होती है.

होलाष्टक में नहीं करने चाहिए ये काम

-होलाष्टक में नामकरण, विवाह सगाई और 16 संस्कार नहीं करने चाहिए.
-फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी से लेकर पूर्णिमा के मध्य किसी भी दिन नए घर का निर्माण कार्य भूलकर भी कराएं और न ही गृह प्रवेश करें.
-होलाष्टक में आपको कोई भी नया काम शुरू नहीं करना चाहिए.

-होलाष्टक के दौरान बेटी या फिर बहू की बिदाई नहीं करते हैं. होलाष्टक के बाद ही यह कार्यक्रम करना चाहिए.
-होलाष्टक में किसी भी तरह का यज्ञ कर्म और हवन नहीं किया जाता है.

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.