Hariyali Teej Fasting in Pregnancy: हिंदू शास्त्र में हरियाली तीज को बहुत महत्वपूर्ण बताया गया है. इस साल हरियाली तीज 19 अगस्त, शनिवार को पड़ रही है. इस दिन माता पार्वती और शिव की पूजा की जाती है. ऐसा माना जाता है कि अगर कुंवारी लड़की हरियाली तीज का व्रत रखती है तो उसे मनचाहा वर मिलता है और उसकी शादी जल्द हो जाती है. वहीं अगर कोई विवाहित महिला हरियाली तीज का व्रत रखती है तो उसे दांपत्य जीवन के सभी सुख मिलते हैं और पति के साथ प्रेम भी बढ़ता है.

इसके अलावा गर्भवती महिलाओं के इस व्रत को करने से पति के साथ-साथ संतान संबंधी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं. हालांकि गर्भवती महिलाओं को हरियाली तीज का व्रत रखते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए. आइये जानते हैं कि गर्भवती महिलाओं को कैसे रखना चाहिए हरियाली तीज का व्रत.

यह भी पढ़ें: Hariyali Teej 2023 Fasting Tips: हरियाली तीज व्रत में करें इन चीजों का सेवन, नहीं होगी डिहाइड्रेशन

गर्भवती महिलाएं न रखें निर्जला व्रत (Hariyali Teej Fasting in Pregnancy)

  • शास्त्रों में भी कुछ विशेष परिस्थितियों में नियमों में बदलाव संभव है.
  • अगर आप गर्भवती हैं तो हरियाली तीज के दिन निर्जला व्रत न रखें.
  • गर्भावस्था के दौरान किया गया व्रत स्वतः ही पूर्ण माना जाता है.
  • इस दौरान व्रत रखने से व्रत का फल भी अधिक प्राप्त होता है.

यह भी पढ़ें: Hariyali Teej Gifts For Wife: हरियाली तीज पर अपनी पत्नी को करें खुश, दें ये गिफ्ट

गर्भवती महिलाएं व्रत के दौरन क्या खाएं क्या न खाएं

  • अगर आप गर्भवती हैं तो चाय या कॉफी जैसी चीजों का सेवन न करें.
  • इसकी जगह आप रसदार फल खा सकते हैं. आप दही ले सकती हैं.
  • साथ ही आप अधिक से अधिक पानी का सेवन भी कर सकती हैं.
  • व्रत के दौरान खाया गया खाना गर्भवती महिला के लिए मान्य नहीं होता है.

यह भी पढ़ें: Hariyali Teej Vrat 2023: हरियाली तीज का व्रत कैसे रखा जाता है? जान लें संकल्प से लेकर पारण तक सबकुछ

गर्भवती महिलाएं क्या करें क्या न करें

  • हरियाली तीज के दिन गर्भवती महिलाओं को दोपहर में सोना नहीं चाहिए.
  • हरियाली तीज पर गर्भवती महिलाओं को किसी दूसरे के घर नहीं जाना चाहिए.
  • हरियाली तीज पर गर्भवती महिलाओं को भगवान शिव का भजन सुन्ना चाहिए.
  • इससे होने वाले बच्चे पर शुभ प्रभाव पड़ेगा.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)