Diwali 2023 Puja Muhurat: दिवाली का त्योहार हिंदू धर्म में बहुत बड़ा माना गया है. वहीं भारत के लिए भी दिवाली बड़ा पर्व है और हर धर्म के लोगों को दिवाली त्योहार से कहीं ना कहीं जुड़ा होता है. ऐसी मान्यता है कि दिवाली का पर्व भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में मनाया जाता है जो धार्मिक ग्रंथ रामायण में उल्लेखनीय है. दिवाली की पूजा हमेशा शुभ मुहूर्त में करनी चाहिए क्योंकि ऐसी मान्यता है कि सही समय पर पूजा करने से मां लक्ष्मी का आगमन घर में होता हैऔर इसी वजह से लोग सही समय का इंतजार करते हैं. दिवाली की पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है, इसका क्या लाभ होता है चलिए आपको बताते हैं.

यह भी पढ़ें: Diwali 2023 Bank Holiday: दिवाली में कितने दिन बंद रहेंगे बैंक? तारीख जानें और निपटा लें जरूरी काम

दिवाली पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है? (Diwali 2023 Puja Muhurat)

कार्तिक मास की अमावस्या (Kartik Amavasya 2023) को दिवाली का पर्व (Diwali Festival 2023) मनाया जाता है. इस साल दिवाली का त्योहार 12 नवंबर 2023 को मनाया जाएगा. इस पवित्र त्योहार के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा (Diwali Puja Time) की जाती है. ऐसी मान्यता है कि दिवाली पर माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा शुभ मुहूर्त (Diwali Puja Timings 2023) में की जाए तो शुभ फल की प्राप्ति होती है. हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल कार्तिक मास की अमावस्या 12 नवंबर के दिन पड़ी है. इस लिहाज से 12 नवंबर दिन रविवार को दिवाली 2023 का त्योहार मनाया जाएगा. 10 नवंबर को धनतेरस, 11 नवंबर को नरक चतुर्दशी, 12 नवंबर को अमावस्या यानी दिवाली, 13 नवंबर से कार्तिक मास का शुक्ल पक्ष शुरू होगा और इस दिन अन्नकूट की पूजा की जाती है.

Adhik Maas 2023 Ends Date
अधिक मास में करें मां लक्ष्मी की पूजा. (प्रतीकात्मक फोटोः Freepik)

कार्तिक मास की अमावस्या तिथि 12 नवंबर की दोपहर 2.43 बजे से शुरू होगी जिसका समापन 13 नवंबर 2.55 बजे तक होगा. 12 नवंबर को दिवाली की पूजा शाम 5.40 बजे से लेकर 7.36 बजे तक होगी. इसमें लक्ष्मी-गणेश की पूजा का विशेष महत्व होता है और समय से पूजा करने वालों को धनलाभ हो सकता है. 14 नवंबर को गोवर्धन पूजा है और 15 नवंबर को भैया दूज मनाया जाएगा. इसके एक दिन छोड़ 17 नवंबर से 20 नवंबर तक छठ का महापर्व शुरू हो जाएगा. ये पर्व खासकर उत्तरी पूर्वांचल और बिहार में मनाया जाता है और ये सबसे कठिन व्रत माना गया है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

यह भी पढ़ें: 10 Lines Essay on Diwali: दीपावली पर 10 लाइन का निबंध कैसे लिखें? आसान भाषा में समझें