Chhath Puja Day 2 Kharna: यूपी, बिहार और झारखंड में छठ महापर्व के तौर पर मनाया जाता है. छठ पूजा देशभर में वो लोग मनाते हैं जो मूलरूप से बिहार के होते हैं. छठ पूजा पूरे चार दिन चलती है और इसमें नहाय-खाय, खरना, छोटी छठ पूजा और बड़ी छठ पूजा का कॉन्सेप्ट है. 17 नवंबर से छठ पूजा की शुरुआत हो चुकी है और आज 18 नवंबर है जिसमें खरना प्रसाद का दिन आया है. छठ पूजा के दूसरे दिन खरना होता है जिसमें पूरे दिन निर्जला व्रत रखने के बाद रात में चूल्हे पर रोटी और रसियाव (गुड़ की खीर) का प्रसाद बनाया जाता है और उसे व्रत रखने वाला खाता है. इसका प्रसाद हर किसी को बांटा भी जाता है. चलिए आपको इस दिन के बारे में विस्तार से बताते हैं.

यह भी पढ़ें: Happy Chath Puja Kharna Wish: छठ पूजा में खरना की भेजें शुभकामनाएं, परिवार के साथ मनाएं ये महापर्व

छठ पूजा में खरना का प्रसाद क्या है? (Chhath Puja Day 2 Kharna)

छठ के दूसरे दिन को खरना के नाम से जानते हैं. इस दिन गुड़ और चावल की खीर बनाई जाती है. खरना का मतलब होता है शुद्धिकरण. इस दिन महिलायें एक समय के भोजन के साथ निर्जला व्रत रखती हैं. व्रती को खुद ही खरना का प्रसाद तैयार करना होता है और इसके लिए खास नियम हैं. खरना के प्रसाद में गुड़ और चावल की खीर को लकड़ी और मिट्टी के नए चूल्हे पर तैयार किया जाता है. इस प्रसाद को सूर्य देवता को चढ़ाया जाता है. खरना के प्रसाद को ‘रसियाव’ कहते हैं. इस प्रसाद को पहले खुद व्रती महिलाएं कहते हैं और बाद में इसे परिवार के बाकी सदस्यों में बांटा जाता है. चावल और दूध को चन्द्रमा का प्रतीक, जबकि गुड़ को सूर्य का प्रतीक माना गया है.

कैसे बनाते हैं खरना के दिन गुड़ वाली खीर (Gud Kheer Recipe in Hindi)

खीर बनाने के लिए चावल, दूध और गुड़ की जरूरत होती है. अगर आपने 500 ग्राम चावल लिया है तो 150 ग्राम गुड़ और दो लीटर दूध ले लें. पहले दूध को अच्छे से गर्म कर लें. इसके बाद इसमें थोड़ा सा पानी मिला लें. पानी अपने मुताबिक़ मिलाएं. इसके बाद इसमें धुला हुआ चावल मिला लें और धीमी आंच पर पका लें. इसको बीच-बीच में चलाते भी रहें. चावल अच्छे से पकने पर उसे चूल्हे से उतार लें. ठंडा होने पर इसमें गुड़ को फोड़कर अच्छे से मिला लें.

इसे भोग लगाने के बाद सबमें बांटा जाता है. छठ का व्रत रखने के लिए ताकत की जरूरत होती है. ऐसे में गुड़ की खीर इस जरूरत को पूरा करती है. साथ ही ये सर्दी के मौसम में इम्युनिटी मजबूत करने का काम भी करती है. गुड़, दूध और चावल तीनों ताकत से भरपूर होते हैं, ऐसे में व्रत के दिन महिलाएं इसे खाती हैं. इसमें आयरन काफी मात्रा में मौजूद होता है, जिससे शरीर को ऊर्जा के साथ गर्मी मिलती है.

यह भी पढ़ें: Chhath Puja 2023 Rule: 4 दिन के छठ पूजा में भूलकर भी ना करें ये गलतियां, वरना होगा पछतावा!