देश भर में चैत्र नवरात्रि खूब धूमधाम से मनाई जा रही है. आपको बता दें कि वैसे तो नवरात्रि के पूरे नौ दिन ही बहुत खास होते हैं, लेकिन इसमें भी अष्टमी और नवमी का विशेष महत्व माना गया है. इस बार अष्टमी व नवमी  29 और 30 मार्च को पड़ रही है. गौरतलब है कि नवरात्रि के समापन के अवसर पर अष्टमी व नवमी (Navmi 2023 Kanya Pujan Time) के दिन कन्या पूजन का विशेष महत्व माना गया है. अधिकतर लोग नवमी के दिन कन्या पूजन करते हैं. अक्सर लोगों में कन्या पूजन के समय को लेकर बहुत संशय बना रहता है. तो ऐसे में परेशान होने की जरूरत नहीं है. हम आपको कन्या पूजन 2023 के उचित समय के बारे में बताने वाले हैं.

यह भी पढ़ें: Chaitra Navratri 2023: नवरात्रि में क्यो बोए जाते हैं जौं? जानें महत्व और मिलने वाले शुभ-अशुभ संकेत

महानवमी कन्‍या पूजन शुभ मुहूर्त

महानवमी (Navmi 2023 Kanya Pujan Time) के दिन ब्रह्म मुहूर्त सुबह 04 बजकर 41 मिनट पर शुरू होगा और 05 बजकर 28 मिनट पर समाप्त होगा. अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 45 मिनट से दोपहर 12 बजकर 30 मिनट तक रहेगा. इस दिन बृहस्पति और पुनर्वसु योग, अमृत सिद्धि योग रात 10 बजकर 58 मिनट से 30 बजकर 15 मिनट तक रहेगा और रवि योग रात 10 बजकर 58 मिनट तक रहेगा. वहीं सर्वार्थ सिद्धि योग पूरे दिन रहेगा. इस दिन बृहस्पतिवार होने के साथ सुबह से पुनर्वसु नक्षत्र रात 22: 58 मिनट तक रहेगा. ये योग कन्या पूजन के साथ ही अन्य कार्यों के लिए भी शुभ माना जाता है.

यह भी पढ़ें: Chaitra Navratri 2023 Rashifal: नवरात्रि पर होगा इन 5 राशि वालों को आर्थिक फायदा, इसमें आप भी शामिल तो नहीं?

कन्या पूजन से होने वाले लाभ

मान्यता है कि जो भी भक्त नवमी (Navmi 2023 Kanya Pujan Time) तिथि के दिन कन्या पूजन करते हैं, उन्हें मां दुर्गा को हलवा व चने का भोग लगाना चाहिए. इस दिन कन्याओं को घर बुलाकर उनके पैरों को पखारना चाहिए. इसके बाद सभी कन्याओं को रोली-तिलक लगाकर कलावा बांधकर सभी कन्याओं को हलवा पूरी और चने का प्रसाद खिलाना चाहिए. इसके बाद कन्याओं को अपने सामर्थ्य के अनुसार, चीजें भेंट करनी चाहिए. मान्यता है कि विधि विधान से ऐसा करने से माता प्रसन्न होती हैं और आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करने के साथ ही आपको अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)