Ahoi Ashtami 2023 Don’ts In Hindi: हिंदू धर्म में अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtami 2023 Don’ts) का विशेष महत्व माना गया है. अहोई अष्टमी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है. आपको बता दें कि इस दिन माताएं अपने पुत्रों की दीर्घायु के लिए व्रत धारण करती हैं और तारों की छाव में व्रत का पारण करती हैं. अहोई अष्टमी व्रत, एक मां का अपने पुत्र के प्रति प्रेम को दर्शाता है. इस दिन माताएं अपने पुत्र की रक्षा के लिए निर्जला व्रत का पालन करती हैं. जबकि निःसंतान महिलाएं भी पुत्र कामना के लिए यह व्रत धारण करती हैं. इस बार अहोई अष्टमी का व्रत 5 नवंबर, रविवार को रखा जाने वाला है. गौरतलब है कि इस दिन कुछ चीजें भूलकर भी न करने की सलाह दी जाती है. क्योंकि कुछ चीजों को करने से आपको दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं.

यह भी पढ़ें: Ahoi Ashtami 2023: अहोई अष्टमी कब है? जान लें तारीख, शुभ मुहूर्त के साथ इस दिन क्या न करें

अहोई अष्टमी के दिन क्या नहीं करना चाहिए?

1- अहोई अष्टमी पर दिन में सोने का बहुत विचार माना जाता है. ऐसे में इस दिन दिन में तो भूलकर भी नहीं सोना चाहिए. इसके साथ ही इस व्रत के दौरान रात में जागकर भगवान का भजन-कीर्तन करना कल्याणकारी माना गया है.

2- अहोई अष्टमी के दिन सुई, कील जैसी नुकीली चीजों का इस्तेमाल करने से परहेज करना चाहिए. इन चीजों का इस्तेमाल करने से पूजा का शुभ फल प्राप्त नहीं होता है.

3- अहोई अष्टमी के दिन कलेश आदि से बचना चाहिए. ऐसा करने से आपके घर में भगवान का वास नहीं होता है और आप पर दुख मुसीबतें आने लगती हैं और आप धीरे धीरे दरिद्रता की चपेट में आने लगते हैं. इसके साथ ही इस दिन हमें किसी का न उपहास करना चाहिए और न ही किसी को हानि पहुंचानी चाहिए.

यह भी पढ़ें: Rama Ekadashi 2023 Date: कब है कार्तिक मास का पहला एकादशी व्रत? यहां जानें तारीख और महत्व

4- अहोई अष्टमी व्रत का पारण रात में तारों को अर्घ्य देकर किया जाता है. ऐसे में तारों को अर्घ्य देने के लिए चांदी से बने लोटे का इस्तेमाल करना शुभ माना गया है. इस दौरान ध्यान रहे हमें भूलकर भी अर्घ्य देने के लिए तांबे के लोटे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

5- इस दिन हमें किसी भी जीव जंतु को मारना या हानि नहीं पहुंचानी चाहिए. ऐसा करने से आप से भगवान नाराज हो जाते हैं और आपको बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ओपोई इसकी पुष्टि नहीं करता है.)